अगर अब तक नहीं लिया है फास्टैग, तो जल्दी करें, 29 फरवरी तक फ्री में दे रही है सरकार

जिन लोगों ने अब तक अपनी गाड़ियों में फास्टैग नहीं लगवाया है उनके लिए सुनहरा मौका है। सरकार अगले 2 सप्ताह तक फ्री में फास्टैग लगाने की सुविधा दे रही है। 29 फरवरी तक देश के कई टोल प्लाजा पर फ्री में फास्टैग लगवा सकते हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अगर आपने अब तक अपनी गाड़ी में फास्टटैग नहीं लगवाया है, तो आपके लिए सुनहरा मौका है। केंद्र सरकार ने कई टोल प्लाजा पर फ्री में फास्टैग लगवाने की सुविधा देने का ऐलान किया है। देश भर में नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) के टोल प्लाजा पर 15 फरवरी से अगले हफ्ते तक फास्टैग मुफ्त में मिलेंगे। देश में कहीं भी एनएचएआई के टोल प्लाजा से 29 फरवरी तक फास्टैग लेने पर कोई शुल्क नहीं लगेगा।

देश में कार रखने वालों के लिए ये आखिरी मौका है। अगर आपने अब भी फास्टैग नहीं लगवाया तो आपको दोगुना टोल देना होगा। दरअसल सरकार फास्टैग को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठा रही है। नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने बताया है कि फास्टैग देश भर के टोल प्लाजा, आरटीओ, कॉमन सर्विस सेन्टर, ट्रांसपोर्ट केंद्र और कई पेट्रोल पंप पर भी मिलेंगे।


इसके अलावा आप फास्टैग लगवाने के लिए आप टोल फ्री नंबर 1033 पर संपर्क कर सकते हैं या आप माइफास्टैग ऐप से भी इसे हासिल कर सकते हैं। एप और फोन नंबर पर आपको फास्टैग के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी। इसके अलावा आप इसके बारे में अगर कुछ और भी जानकारी चाहते हैं तो वेबसाइट ihmcl.com पर भी जा सकते हैं।

बता दें कि फास्टैग एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जिसमें एक चिप लगी होती है। इसे गाड़ी के आगे वाले शीशे पर लगाया जाता है। आपकी गाड़ी पर फास्टैग लगा होने पर आपको टोल प्लाजा पर टोल देने के लिए रुकने की जरुरत नहीं होगी। फास्टैग लगी गाड़ी जब टोल प्लाजा से गुजरेगी तो टोल टैक्स अपने आप गाड़ी मालिक के खाते से कट जाएगा। इसके लिए अपने मोबाइल पर My FASTag ऐप डाउनलोड करना होगा, जिसपर टोल की राशि और भुगतान की जानकारी अपडेट होगी। फिलहाल सरकार मार्च 2020 तक फास्टैग का इस्तेमाल करने पर 2.5 फीसदी तक कैशबैक भी दे रही है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;