भरी सभा में एक शायर से खौफ में आए इमरान खान, अपनी आलोचना करने वाली कविता को बीच में ही रोका

पहले तो पाकिस्तान के सरकारी टेलीविजन पीटीवी ने उसकी यह कविता काट दी और फिर उसके बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने कवि को बीच में ही रोक दिया और कहा कि कृपया व्यापार से जुड़े मामलों के बारे में बात करें। हम कविता के लिए बाद में भी समय निकाल सकते हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए ताजिक की राजधानी दुशांबे में पाकिस्तान-ताजिकिस्तान व्यापार मंच को संबोधित करने के बाद उनकी नीतियों की आलोचना करने वाले एक कवि को बीच में ही रोक दिया। जियो टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार को एक प्रश्नोत्तर सत्र के दौरान, एक व्यक्ति ने प्रधानमंत्री की आलोचनात्मक कविता सुनाना शुरू कर दिया, जिसे इमरान ने बीच में ही रोक दिया।

रिपोर्ट के अनुसार दर्शकों के बीच मौजूद पाकिस्तानी व्यक्ति ने कहा कि मेरे पास आपके लिए एक कविता है, जो इस प्रकार है- 'इतने जालिम न बनो'। इमरान भाई, यह तुम्हारे लिए है। फिर उसने शेर सुनाया- अब आप एक कैदी बन गए हैं। जब आप कंटेनर पर विरोध करते थे तो आप महान हुआ करते थे। अभी, हमें यकीन नहीं हो रहा है कि आपने खुद को किस चीज में शामिल कर लिया है।


इसके बाद पहले तो पाकिस्तान के सरकारी टेलीविजन पीटीवी ने उसकी यह कविता काट दी और फिर उसके बाद प्रधानमंत्री इमरान खान ने कवि को बीच में ही रोक दिया और कहा कि कृपया व्यापार से जुड़े मामलों के बारे में बात करें। हम कविता के लिए बाद में भी समय निकाल सकते हैं।

इमरान खान वर्तमान में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के राष्ट्राध्यक्षों की परिषद 2021 में भाग लेने के लिए ताजिकिस्तान में हैं और उनके साथ कपड़ा, खनिज, दवा, रसद और अन्य सहित कई क्षेत्रों की 67 कंपनियों के प्रतिनिधियों सहित एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia