यौन उत्पीड़न मामले में बीजेपी नेता चिन्मयानंद की बढ़ी मुश्किलें, किया गया नजरबंद, दिव्य धाम का बेडरूम सील

एसआईटी के इशारे पर स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। आश्रम के बाहर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। खबरों के मुताबिक, एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद और उनके विश्वासपात्रों को कहीं बाहर न निकलने की हिदायत भी दे दी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की लॉ की छात्रा द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के मामले में बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद की मुश्किलें बढ़ गई हैं। ‘न्यूज़ 18 हिंदी’ वेबसाइट की खबर के मुताबिक, चिन्मयानंद को नजरबंद कर दिया गया है। साथ ही चिन्मयानंद के दिव्य धाम का बेडरूम भी सील कर दिया गया है। आज यानी शुक्रवार को फॉरेंसिक टीम कमरे की जांच कर सकती है। इसके साथ ही एसआईटी के इशारे पर दिव्य धाम में सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

इससे पहले गुरुवार देर रात 2 बजे तक चिन्मयानंद और उनके कुछ विश्वासपात्रों से एसआईटी ने करीब 7 घंटे तक कड़ी पूछताछ की। पूछताछ शाहजहांपुर पुलिस लाइन परिसर में की गई। हालांकि रेप के मामले में अब तक एफआईर दर्ज नहीं की गई है। उत्तर प्रदेश पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, “भले ही एसआईटी की निगरानी इलाहाबाद हाई कोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ कर रही हो, लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए सूबे की सरकार और राज्य पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह करीब से नजर रखे हुए हैं।”

शाहजहांपुर में कई दिन से डेरा डाले एसआईटी टीम के सदस्य आरोपी-गवाह और शिकायतकर्ताओं के अलावा बाकी हर किसी से दूरी बनाए हुए हैं। वजह है कि एसआईटी पर इलाहाबाद हाई कोर्ट की विशेष पीठ की नजरें लगी हुई हैं। जांच में क्या कुछ निकल कर सामने आ रहा है? जांच की दिशा क्या है? इसकी पल-पल की जानकारी पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह को एसआईटी दे रही है, ताकि एसआईटी जब रिपोर्ट के साथ इलाहाबाद हाई कोर्ट की दो सदस्यी पीठ के सामने पेश हो, तो राज्य सरकार और राज्य पुलिस की किरकिरी न हो।

खबरों की अनुसार, उत्तर प्रदेश पुलिस और उसकी एसआईटी को एक डर यह भी सता रहा है कि अगर उसकी जांच में कहीं कोर-कसर बाकी रह गई तो, कोई बड़ी बात नहीं कि राज्य पुलिस की एसआईटी से छीनकर मामले की निगरानी कर रही हाई कोर्ट की विशेष पीठ जांच कहीं सीबीआई के हवाले न कर दे।

बहरहाल इन तमाम तथ्यों के बीच में ही एसआईटी के इशारे पर स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। आश्रम के बाहर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्र तो यह भी बताते हैं कि, एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद और उनके विश्वासपात्रों को कहीं बाहर न निकलने की हिदायत भी दे दी है।

इससे दो प्रबल संभावनाएं उभर कर सामने आ रही है कि, पहली कि चिन्मयानंद को एसआईटी कभी भी हिरासत में ले सकती है। दूसरी संभावना है कि इस पूरे प्रकरण में सामने आए या लाए गए चिन्मयानंद के मसाज वाले वीडियो को लेकर कहीं स्थानीय जनता के स्वामी जी शिकार न हो जाए।

Published: 13 Sep 2019, 12:11 PM
लोकप्रिय