Ankita Murder Case: आधी रात को रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाकर वाहवाही लूटने वाली BJP सरकार घिरी, लगे गंभीर आरोप

रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाने को लेकर खुद अंकिता भंडारी के परिजनों ने गंभीर सवाल खड़े किए हैं। अंकिता के पिता का कहना है कि प्रशासन ने जल्दबाजी में रिजॉर्ट में अंकिता का कमरा तोड़ दिया। उसमें सबूत हो सकते थे। साफ है परिजन सबूत मिटाने की ओर इशारा कर रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

हैदर अली खान

उत्तराखंड के ऋषिकेश में रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या के मामले में हर दिन नई-नई बातें सामने आ रही हैं। मामले की जांच एसआईटी कर रही है। इस बीच मुख्य आरोपी के रिजॉर्ट पर आधी रात को बुलडोजर चलाकर वाहवाही लूटने वाली राज्य की बीजेपी सरकार अब आरोपों के घेरे में है। सरकार पर सबूत मिटाने के आरोप लग रहे हैं।

परिजनों ने बुलडोजर एक्शन पर खड़े किए गंभीर सवाल

रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाने को लेकर खुद अंकिता भंडारी के परिजनों ने गंभीर सवाल खड़े किए हैं। अंकिता के पिता का कहना है कि प्रशासन ने जल्दबाजी में रिजॉर्ट में अंकिता का कमरा तोड़ दिया। उसमें सबूत हो सकते थे। साफ है परिजन सबूत मिटाने की ओर इशारा कर रहे हैं। मामले में गौर करने वाली दो खास बातें हैं। पहली ये कि प्रशासन ने रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाने के आदेश नहीं दिए थे। खुद मुख्यमंत्री ने रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाने के आदेश दिए थे। गौर करने वाली दूसरी बात यह है कि इस हत्याकांड का मुख्य आरोपी बीजेपी के वरिष्ठ नेता का बेटा है।


रिजॉर्ट पर चले बुलडोजर को लेकर पूछे जा रहे हैं सवाल:

  • रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाने की आखिर क्या जल्दी थी?

  • आधी रातो को आखिर क्यों रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाया गया?

  • पुलिस ने अंकिता के कमरे को सील किया था, फिर क्यों तोड़ा गया?

  • सीएम ने आनन फानन में आखिर क्यों दिए रिजॉर्ट पर बुलडोजर चलाने के आदेश?

सवाल यह पूछा जा रहा है कि आखिर क्या ऐसी जल्दबाजी थी कि आधी रात को मुख्य आरोपी के उस रिजॉर्ट पर बुलडोजर चला दिया गया, जिसमें अंकिता भंडारी काम करती थी? दिन में भी यह कार्रवाई की जा सकती थी। बुलडोजर से रिजॉर्ट के उस कमरे को भी तोड़ दिया गया, जिसमें अंकिता रहती थी। जाहिर है जांच के दौरान इन जगहों पर टीम जाएगी। लेकिन अब जबकि उसे तोड़ दिया गया है तो वहां जाने पर जांच टीम को क्या मिलेगा?

आरोपों पर क्या है पुलिस की सफाई?

अपर पुलिस अधीक्षक पौड़ी शेखर चंद्र सुयाल ने अंकिता हत्याकांड से जुड़े साक्ष्यों को मिटाए जाने को लेकर सोशल मीडिया में चल रही खबरों का खंडन किया है। उन्होंने कहा कि केस से जुड़े सारे साक्ष्यों को पुलिस ने सुरक्षित रखा हैं।

उन्होंने कहा कि राजस्व पुलिस से 22 सितंबर को मामला हस्तांतरित होते ही टीम ने रिजॉर्ट की वीडियोग्राफी कराई थी। 23 सितंबर की सुबह फॉरेंसिक टीम ने अंकिता के कमरे और पूरे रिजॉर्ट से इलेक्ट्रॉनिक और वैज्ञानिक साक्ष्य जुटाकर सुरक्षित कर लिए थे। घटना के संबंध में पुलिस के पास पर्याप्त साक्ष्य हैं, जिससे अपराधियों को सजा मिल जाएगी। एएसपी ने कहा कि अब मामले की जांच एसआईटी कर रही है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia