भारत ने युद्ध के मैदान में हासिल की बड़ी ताकत, 5000KM तक मार करने में सक्षम अग्नि-5 का हुआ सफल परीक्षण

अग्नि-5 मिसाइल उच्च सटीकता के साथ 5,000 किलोमीटर तक की दूरी पर लक्ष्य को भेदने में सक्षम है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अग्नि-5 का सफल परीक्षण 'विश्वसनीय न्यूनतम प्रतिरोध' की भारत की घोषित नीति के अनुरूप है, जो 'पहले उपयोग न करने' की प्रतिबद्धता दिखाता है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत ने बुधवार को ए पी जे अब्दुल कलाम द्वीप से परमाणु सक्षम और सतह से सतह पर 5,000 किलोमीटर रेंज तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अग्नि-5 का सफल परीक्षण 'विश्वसनीय न्यूनतम प्रतिरोध' की भारत की घोषित नीति के अनुरूप है, जो 'पहले उपयोग न करने' की प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।

रक्षा मंत्रालय के अनुसार अग्नि-5 को डीआरडीओ और भारत डायनेमिक्स लिमिटेड द्वारा विकसित किया गया है और इसका वजन करीब 50,000 किलोग्राम है। मिसाइल 1.75 मीटर लंबा है, जिसका व्यास 2 मीटर है। यह 1,500 किलोग्राम का वारहेड तीन चरणों वाले रॉकेट बूस्टर के शीर्ष पर रखा जाएगा जो ठोस ईंधन द्वारा संचालित होते हैं। यह मिसाइल बेहद उच्च सटीकता के साथ 5,000 किलोमीटर तक की दूरी पर लक्ष्य को भेदने में सक्षम है।


वैज्ञानिकों ने कहा है कि भारतीय अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल अपने सबसे तेज गति से 8.16 किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से चलने वाली है, जो ध्वनि की गति से 24 गुना तेज होगी और 29,401 किलोमीटर प्रति घंटे की उच्च गति हासिल करेगी। यह एक रिंग लेजर गायरोस्कोप जड़त्वीय नेविगेशन प्रणाली से लैस है जो उपग्रह मार्गदर्शन के साथ काम करता है।

यह सटीक निशाना लगाने में भी सक्षम है। इसे मोबाइल लॉन्चर से लॉन्च किया जा सकता है।
इसे इस तरह से क्रमादेशित किया जाता है कि अपने प्रक्षेपवक्र के चरम पर पहुंचने के बाद, यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण खिंचाव के कारण बढ़ी हुई गति के साथ लक्ष्य तक अपनी यात्रा जारी रखने के लिए पृथ्वी की ओर मुड़ जाता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia