नोटबंदी और जीएसटी से भारतीय अर्थव्यवस्था और नौकरी सृजन को काफी नुकसान पहुंचा: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मैसूर के महिला आर्ट्स कॉलेज की छात्राओं को संबोधित करते हुए रोजगार, जीएसटी और नोटबंदी समेत कई मुद्दों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कर्नाटक दौरे पर हैं। मैसूर के महिला आर्ट्स कॉलेज में कांग्रेस अध्यक्ष छात्राओं से मुखातिब हुए। इस दौरान उन्होंने रोजगार, जीएसटी और नोटबंदी समेत कई मुद्दों को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला।

आर्ट्स कॉलेज में छात्राओं को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, “नीरव मोदी बैंक का 22 हजार करोड़ रुपये लेकर भाग गया। क्या आप कल्पना कर सकती हैं कि अगर आप सभी को 22,000 करोड़ रुपये दे दिए गए होते तो आप जैसी युवा महिलाएं कितने व्यवसाय खड़ी कर देतीं?”

राहुल गांधी ने कहा, “मैं समझता हूं कि नोटबंदी एक बहुत बड़ी गलती थी, जो नहीं होनी चाहिए थी। नोटबंदी और जीएसटी से भारतीय अर्थव्यवस्था और नौकरी सृजन को काफी नुकसान पहुंचा। जिस तरह से नोटबंदी को लागू किया गया, उसमें खामी थी और रिजर्व बैंक के गवर्नर, मुख्य आर्थिक सलाहकार और वित्तमंत्री, इनमें से कोई भी इस बारे में नहीं जानता था।”

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हम एक अर्थव्यवस्था के रूप में बहुत अच्छे से बढ़ रहे हैं, लेकिन हम नौकरियां पैदा नहीं कर पा रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि बहुत से कुशल लोगों के पास न तो पैसा है और न ही कोई सरकारी मदद। उन्होंने यह भी जोड़ा कि परेशानी यह है कि देश का बहुत सारा धन 15 से 20 लोगों के पास है।

कॉलेज में छात्राओं को संबोधित करने से पहले राहुल गांधी मैसूर के चामुंडेश्वरी मंदिर पहुंचे, जहां उन्होंने मंदिर में दर्शन कर आशीर्वाद लिया। इस दौरान उनके साथ कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया भी मौजूद थे।

इससे पहले राहुल गांधी ने फेसबुक डेटा चोरी से जुड़ी खबर को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। कांग्रेस अध्यक्ष ने इसे लेकर कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद पर हमला बोलते हुए न्यायपालिका से जुड़े गंभीर मुद्दों को उठाया। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “अदालतों में लंबित मामलों की वजह से न्यायपालिका के काम-काज प्रभावित हो रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट में 55 हजार से ज्यादा, हाईकोर्ट में 37 लाख से ज्यादा और निचली अदालतों में ढाई करोड़ से ज्यादा मामले लंबित पड़े हैं।”

राहुल गांधी ने आगे लिखा, “400 हाईकोर्ट में और 6 हजार निचली अदालतों में जजों की नियुक्ति नहीं की जा रही है। इन चुनौतियों से निपटने के बजाय हमारे कानून मंत्री झूठी खबर बेचने में मग्न हैं।”

लोकप्रिय