भारतीय 'हैक-फॉर-हायर' गिरोह की सक्रियता बढ़ी, चुपके से चुरा रहे दुनिया भर के लोगों का डेटा

उद्योग के संस्थापकों में से एक अप्पिन नामक एक फर्म थी, जो अब बंद हो चुकी है। ब्यूरो और संडे टाइम्स ने भी खुलासा किया है कि अप्पिन द्वारा प्रशिक्षित हैकरों में आदित्य जैन थे, जिनके गुप्त डेटाबेस से पता चला कि उन्होंने कतर के आलोचकों को हैक किया था।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

ईमेल खातों और स्मार्टफोन में सेंध लगाने के लिए भारतीय अंडरवर्ल्ड का इस्तेमाल एक पुराना तरीका बन गया है, जो वर्षों से चलता आ रहा है। इस कड़ी में ब्रिटिश जांचकर्ताओं ने कंप्यूटर दुरुपयोग कानूनों को तोड़ने वालों को आड़े हाथ लेना शुरु कर दिया और आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चलाने की घोषणा की। ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिज्म और संडे टाइम्स की जांच में 'हैक-फॉर-हायर' गैंग ब्रिटिश व्यवसायों, पत्रकारों और राजनेताओं को लक्षित करने वाली कॉपोर्रेट खुफिया कंपनियों के लिए लंदन भर में अवैध कंप्यूटर हैकिंग की सीमा को दर्शाता है।

लेकिन यह गिरोह अकेला नहीं है। अंडरकवर पत्रकारों ने भारतीय हैकरों की एक सीरीज के साथ संपर्क बनाया, जिन्हें गुप्त रूप से उनके अवैध काम और ब्रिटेन में उनके भूमिगत उद्योग के नापाक प्रभाव के बारे में खुलकर बात करते हुए फिल्माया गया। यूके से हैकिंग करना गैरकानूनी है, यह अपराध 10 साल तक की जेल की सजा के साथ दंडनीय है। भारत में भी ऐसे ही कानून हैं, जहां अवैध रूप से हैकिंग करने पर तीन साल तक की जेल की सजा हो सकती है। लेकिन हैकर्स को इनका कोई डर नहीं था। यह पूछे जाने पर कि क्या कोई भारतीय हैकर पकड़ा गया है, उन्होंने कहा, एक भी नहीं।


हाल के वर्षों में कंप्यूटर सुरक्षा फर्मों के लिए व्हाइट हैट हैकर्स को प्रशिक्षित करने का दिखावा करने की प्रवृत्ति रही है ताकि उनके ज्ञान का उपयोग ग्राहकों को ऑनलाइन हमलों से बचाने के लिए किया जा सके। प्राइवेट ईमेल अकाउंट को हैक करने और भुगतान करने के इच्छुक बहुत से ग्राहकों से पैसा कमाया जाता है। भारतीय हैकिंग उद्योग बड़े स्तर पर फैला हुआ है।

उद्योग के संस्थापकों में से एक अप्पिन नामक एक फर्म थी। माना जाता है कि यह हैकर्स की एक नई पीढ़ी को प्रशिक्षित करने का काम करती थी। हालांकि यह कंपनी अब बंद हो चुकी है। कंपनी पर आरोप है कि उसने हैक के जरिए दुनिया भर के ग्राहकों से पैसे लूटे। कहा जाता है कि इन ग्राहकों में ब्रिटेन स्थित कॉपोर्रेट खुफिया कंपनियां शामिल थीं। ब्यूरो और संडे टाइम्स ने भी खुलासा किया कि अप्पिन द्वारा प्रशिक्षित हैकरों में आदित्य जैन थे, जिनके गुप्त डेटाबेस से पता चला कि उन्होंने कतर के आलोचकों को हैक किया था।

इस अखबार के अंडरकवर पत्रकारों से बात करने वाले एक पूर्व कर्मचारी के अनुसार, खाड़ी राज्य के बारे में कहा जाता है कि वह अप्पिन के ग्राहकों में से एक था। कतर ने इसका खंडन किया है। अप्पिन को ब्रिटिश सरकार के व्यापार विभाग द्वारा संचालित एक वैश्विक उद्यमी कार्यक्रम में स्वीकार किया गया था। जांच में कहा गया है कि यह अप्पिन के संस्थापक रजत खरे की मदद करने के लिए उत्सुक था, जिन्होंने यूके में एक व्यवसाय स्थापित किया था।

ब्रिटिश व्यापार विभाग ने कहा कि जब इस योजना में फर्म को स्वीकार किया गया था तब उसे अप्पिन के खिलाफ किसी भी आरोप के बारे में नहीं पता था। पिछले महीने, खरे ने कहा कि अप्पिन के साथ उनकी भागीदारी केवल रोबोटिक्स, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और एथिकल हैकिंग से संबंधित है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;