भारतीय जवानों के सोशल मीडिया ग्रुप में सेंध लगाने की फिराक में है ISI, खुफिया एजेंसियों ने बचने का सुझाव दिया

खुफिया एजेंसियों ने देखा है कि छद्म पहचान वाले कई समूह फेसबुक, व्हाट्सएप, टेलीग्राम, सिग्नल, वीचैट आदि में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे हैं। जवानों को अज्ञात नंबरों या समूहों द्वारा सोशल नेटवर्क पर किसी भी निमंत्रण को स्वीकार नहीं करने के लिए कहा गया है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

तालिबान के काबुल पर कब्जा करने के बाद जम्मू-कश्मीर और पश्चिमी सीमाओं पर सुरक्षा की कड़ी स्थिति के बीच, खुफिया एजेंसियों ने सरकार को अपनी ताजा रिपोर्ट में सुझाव दिया है कि सुरक्षा कर्मियों को संवेदनशील स्थानों विशेषकर सीमावर्ती क्षेत्रों में विभिन्न सोशल मीडिया साइटों का उपयोग करने से बचना चाहिए।

ताजा खुफिया इनपुट के हवाले से सूत्रों ने कहा कि निगरानी एजेंसियों ने पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) द्वारा छद्म पहचान के साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम और अन्य सोशल नेटवर्क पर जवानोंं के सोशल मीडिया समूहों में 'घुसपैठ' करने के कई प्रयासों को देखा है।

एजेंसियों ने कहा है कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) में हाई-अप को केवल सुरक्षित संचार नेटवर्क पर फील्ड संरचनाओं के साथ संवाद करना चाहिए और इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) द्वारा उपलब्ध सरकारी ईमेल नेटवर्क का उपयोग करना चाहिए। सुरक्षा कर्मियों को अन्य सामाजिक नेटवर्क से व्हाट्सएप कॉल और कॉल करने से भी रोका गया है ताकि वे अपने परिवारों या यहां तक कि अपने सहयोगियों के साथ सुरक्षित संवाद कर सकें, खासकर यदि वे संवेदनशील स्थानों पर तैनात हैं।


एजेंसियों की तरफ से जारी अलर्ट में कहा गया है कि किसी भी मामले में, इकाइयों या बटालियनों या यहां तक कि छुट्टी पर जाने वाले कर्मियों की आवाजाही का विवरण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा नहीं किया जाना चाहिए। सुरक्षाबलों के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ये करें और क्या न करें, यह प्रत्येक कर्मियों के लिए प्रोटोकॉल का हिस्सा रहा है और बलों में सभी द्वारा इसका पालन किया गया है।

खुफिया एजेंसियों ने उन रिपोर्टों की पुष्टि की है कि आईएसआई संवेदनशील जानकारी इकट्ठा करने के लिए सुरक्षा बलों के व्हाट्सएप समूहों में घुसपैठ की कोशिश कर रहा है। एजेंसियों ने देखा है कि छद्म पहचान वाले कई समूह फेसबुक, व्हाट्सएप, टेलीग्राम, सिग्नल, वीचैट आदि में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे हैं और उन्हें अज्ञात नंबरों या समूहों द्वारा सोशल नेटवर्क पर किसी भी निमंत्रण को स्वीकार नहीं करने के लिए कहा गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia