नए साल के पहले ही दिन ISRO ने रचा इतिहास, लॉन्च किया XPoSAT सैटेलाइट

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के लिए 1 जनवरी को यह पहला अंतरिक्ष मिशन है। अपनी उड़ान के लगभग 21 मिनट बाद, रॉकेट लगभग 650 किमी की ऊंचाई पर एक्‍सपीओसैट की परिक्रमा करेगा।

फोटो: सोशल मीडियाृ
फोटो: सोशल मीडियाृ
user

नवजीवन डेस्क

2024 के पहले दिन, भारत के ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान-सी58 (पीएसएलवी-सी58) ने सोमवार सुबह देश के एक्स-रे पोलारिमीटर उपग्रह (एक्सपीओसैट) व 10 अन्य पेलोड के साथ उड़ान भरी।

44.4 मीटर लंबा पीएसएलवी-सी58 रॉकेट 260 टन वजन के साथ अपने चौथे चरण में एक्सपीओसैट और 10 अन्य प्रायोगिक पेलोड ले गया। यह प्रक्षेपण सोमवार सुबह 9.10 बजे यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (एसडीएससी) के पहले लॉन्च से हुआ।

अपनेे पीछे एक मोटी नारंगी लौ छोड़ते धीरे-धीरे आसमान की ओर बढ़ते हुए रॉकेट ने गड़गड़ाहट के साथ गति प्राप्त की और एक मोटी गुबार छोड़ते हुए ऊपर और ऊपर चला गया।

दिलचस्प बात यह है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के लिए 1 जनवरी को यह पहला अंतरिक्ष मिशन है। अपनी उड़ान के लगभग 21 मिनट बाद, रॉकेट लगभग 650 किमी की ऊंचाई पर एक्‍सपीओसैट की परिक्रमा करेगा।

इसके बाद, ऑर्बिटल प्लेटफ़ॉर्म (ओपी) प्रयोगों के लिए 3-अक्ष स्थिर मोड में बनाए रखने के लिए कक्षा को 350 किमी गोलाकार कक्षा में कम करने के लिए रॉकेट के चौथे चरण को दो बार फिर से शुरू किया जाएगा।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि पीएसएलवी ऑर्बिटल एक्सपेरिमेंटल मॉड्यूल -3 (पीओईएम-3) प्रयोग को इसरो और भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (आईएन-स्‍पेश) द्वारा आपूर्ति किए गए 10 पहचाने गए पेलोड के उद्देश्य को पूरा करते हुए निष्पादित किया जाएगा।

पीएसएलवी एक चार-चरण/इंजन का रॉकेट है, जो ठोस और तरल ईंधन द्वारा संचालित होता है, वैकल्पिक रूप से, प्रारंभिक उड़ान क्षणों के दौरान उच्च जोर देने के लिए पहले चरण पर छह बूस्टर मोटर्स लगे होते हैं।

इसरो के पास पांच प्रकार के पीएसएलवी रॉकेट हैं - स्टैंडर्ड, कोर अलोन, एक्सएल, डीएल और क्यूएल।

उनके बीच मुख्य अंतर स्ट्रैप-ऑन बूस्टर का उपयोग है, जो बदले में, काफी हद तक परिक्रमा करने वाले उपग्रहों के वजन पर निर्भर करता है।

पीएसएलवी क्रमशः पीएसएलवी-एक्सएल, क्यूएल और डीएल वेरिएंट में पहले चरण द्वारा प्रदान किए गए जोर को बढ़ाने के लिए 6,4,2 ठोस रॉकेट स्ट्रैप-ऑन मोटर्स का उपयोग करता है। हालांकि, कोर-अलोन संस्करण (पीएसएलवी-सीए) में स्ट्रैप-ऑन का उपयोग नहीं किया जाता है।

एक्‍सपीओसैट आकाशीय स्रोतों से एक्स-रे उत्सर्जन के अंतरिक्ष-आधारित ध्रुवीकरण माप में अनुसंधान करने वाला इसरो का पहला समर्पित वैज्ञानिक उपग्रह है। उपग्रह विन्यास को आईएमएस-2 बस प्लेटफ़ॉर्म से संशोधित किया गया है।

मेनफ्रेम सिस्टम का विन्यास आईआरएस उपग्रहों की विरासत के आधार पर तैयार किया गया है। इसमें दो पेलोड हैं, अर्थात् पीओएलआईएक्‍स (एक्स-रे में पोलारिमीटर उपकरण) और एक्‍सएसपीईसीटी (एक्स-रे स्पेक्ट्रोस्कोपी और टाइमिंग)।

पीओएलआईएक्‍स को रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा और एक्‍सएसपीईसीटी को यू.आर.राव सैटेलाइट सेंटर (यूआरएससी) के स्पेस एस्ट्रोनॉमी ग्रुप द्वारा साकार किया गया है।

इसरो के अनुसार, एक्‍सपीओसैट के तीन उद्देश्य हैं: (ए) पीओएलआईएक्‍स पेलोड द्वारा थॉमसन स्कैटरिंग के माध्यम से लगभग 50 संभावित ब्रह्मांडीय स्रोतों से निकलने वाले ऊर्जा बैंड 8-30केईवी में एक्स-रे के ध्रुवीकरण को मापना। (बी) एक्‍सपीईसीटी पेलोड द्वारा ऊर्जा बैंड 0.8-15केवी में ब्रह्मांडीय एक्स-रे स्रोतों के दीर्घकालिक वर्णक्रमीय और अस्थायी अध्ययन करने के लिए और (सी) पीओएलआईएक्‍स द्वारा ब्रह्मांडीय स्रोतों से एक्स-रे उत्सर्जन के ध्रुवीकरण और स्पेक्ट्रोस्कोपिक माप को पूरा करने के लिए और सामान्य ऊर्जा बैंड में क्रमशः एक्‍सएसपीईसीटी पेलोड।

650 किमी में एक्‍सपीओसैट की परिक्रमा करने के बाद, रॉकेट के चौथे चरण - पीएस4 चरण - को दो बार पुनः आरंभ करके, 350 किमी, लगभग 9.6 डिग्री की कक्षा में उतारा जाएगा। भविष्य में नियोजित वायुमंडल पुनः प्रवेश प्रयोगों में पीएस4 चरण की सुरक्षा को सक्षम करने के अग्रदूत के रूप में पीएस4 में बचे हुए प्रणोदक को मुख्य इंजनों के माध्यम से निपटाया जाएगा।

संचालन के पूर्व निर्धारित क्रम में पहले ऑक्सीडाइज़र को छोड़ा जाएगा और उसके बाद ईंधन को। टैंक के दबाव को बाहर निकालकर खर्च किए गए चरण निष्क्रियता की मौजूदा योजना भी सक्रिय होगी। इसरो ने कहा, पीएस4 के निष्क्रिय होने के बाद, चरण का नियंत्रण पीओईएम एवियोनिक्स को स्थानांतरित कर दिया जाता है।

पीओईएम को नए विचारों के साथ अंतरिक्ष योग्य प्रणालियों पर प्रयोग करने के लिए 3-अक्ष स्थिर कक्षीय मंच के रूप में कॉन्फ़िगर किया गया है। पीएस4 स्टेज ऑर्बिटल प्लेटफ़ॉर्म विद्युत ऊर्जा आवश्यकताओं को बैटरी से जुड़े कॉन्फ़िगरेशन में 50एच ली-आयन बैटरी के संयोजन के साथ एक लचीले सौर पैनल द्वारा पूरा किया जाता है।

इसरो ने कहा कि ऑर्बिटल प्लेटफॉर्म में नेविगेशन, मार्गदर्शन, नियंत्रण और दूरसंचार की देखभाल के लिए एवियोनिक सिस्टम और पेलोड का परीक्षण करने के लिए प्लेटफॉर्म के नियंत्रण को पूरा करने के लिए ऑर्बिटल प्लेटफॉर्म एटीट्यूड कंट्रोल सिस्टम शामिल है।

10 पेलोड टेकमी2स्पेस, एलबीएस इंस्टीट्यूट टेक्नोलॉजी फॉर वुमेन, के जे सोमैया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, इंस्पेसिटी स्पेस लैब्स प्राइवेट लिमिटेड, ध्रुव स्पेस प्राइवेट लिमिटेड, बेलाट्रिक्स एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड (दो पेलोड) और इसरो के तीन पेलोड हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;