आईटी ने अजीत पवार से जुड़े परिसरों पर छापेमारी की, एक दिन पहले NCP ने NCB की भूमिका पर खड़े किए थे सवाल

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने आईटी विभाग द्वारा उनकी बहनों को निशाना बनाने के तरीके पर 'दर्द' व्यक्त किया और कहा कि कार्रवाई के पीछे का मकसद अभी भी स्पष्ट नहीं है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

आयकर विभाग ने गुरुवार को महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, उनके परिवार के सदस्यों और व्यापारिक सहयोगियों से जुड़े कारखानों, कार्यालयों और आवासों सहित विभिन्न परिसरों पर छापेमारी की। यह कार्रवाई राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और मंत्री नवाब मलिक द्वारा 2 अक्टूबर को एक लक्जरी क्रूज जहाज पर एक कथित रेव पार्टी के छापे में कथित रूप से भारतीय जनता पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं को शामिल करने के लिए नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो को टारगेट करने के एक दिन बाद हुई है।

आईटी विभाग के निशाने पर जरंदेश्वर चीनी मिल, दौंड चीनी मिल, पुष्पदंतेश्वर चीनी मिल, अंबालिका चीनी मिल और पुणे और कोल्हापुर में अजीत पवार की तीन बहनों के कार्यालय या आवास थे।

छापेमारी की पुष्टि करते हुए पवार ने कहा कि आईटी विभाग ने उनसे जुड़ी कुछ फर्मों पर छापा मारा है और यह उनका अधिकार है, लेकिन किसी भी गलत काम से इनकार किया है।


पवार ने मीडियाकर्मियों से कहा, "मुझे यकीन नहीं है कि वे राजनीतिक उद्देश्यों के लिए या अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आयोजित किए गए थे। हम सभी करों का तुरंत भुगतान कर रहे हैं।"

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार के भतीजे पवार ने भी आईटी विभाग द्वारा उनकी बहनों को निशाना बनाने के तरीके पर 'दर्द' व्यक्त किया और कहा कि कार्रवाई के पीछे का मकसद अभी भी स्पष्ट नहीं है।

उन्होंने कहा, "मेरी बहनों के यहां छापा मारा गया है, एक कोल्हापुर में और दो पुणे में। उन्हें निशाना बनाया गया क्योंकि वे मुझसे संबंधित हैं, तो राज्य के लोगों को उन स्तरों पर विचार करना चाहिए, जिन पर केंद्रीय एजेंसियों का हमें निशाना बनाने के लिए दुरुपयोग किया जा रहा है।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia