पीएनबी महाघोटाला: मोदी-मेहुल की जोड़ी से लगा इटली की इंटेसा सानपोलो बैंक को करोड़ों का चूना

पीएनबी को चपत लगाने वाले नीरव मोदी और मेहुल चोकसी केफर्जीवाड़े से इटली का बैंक इंटेसा सानपोलो एसपीए भी प्रभावित हुआ है। बैंक की हांगकांग शाखा ने मोदी की कंपनी को करोड़ों रुपए का भुगतान किया था।

फोटो सौजन्य: financeapprise
फोटो सौजन्य: financeapprise
user

नवजीवन डेस्क

पीएनबी महाघोटाले में जिन दूसरे बैंकों से नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी ने पैसा उठाया था, उसकी चपेट में इटली का एक बैंक भी आया है। पंजाब नेशनल बैंक ने सीबीआई को दी अपनी शिकायत में बैंकों की जो सूची सौंपी है, उसमें इस बैंक का भी जिक्र है, जिसे सीबीआई ने 15 फरवरी को दर्ज इस घोटाले की दूसरी एफआईआर में शामिल किया है। जानकारी के मुताबिक फर्जीवाड़े के मामा-भांजे की कंपनी गीतांजलि ग्रुप ने इटली की बैंक इंटेसा सानपोलो एसपीए से पीएनबी के एफएलसी पर 22,00,011 डॉलर यानी 14.08 करोड़ रुपये लिए थे, जिसका भुगतान 19 मार्च को किया जाना है।

पीएनबी ने इंटेसा सानपोलो से निकाली गई रकम का जिक्र शाखा के सिर्फ स्विफ्ट कोड में दिया है, जिसमें नाम का उल्लेख करना जरूरी नहीं होता। स्विफ्ट कोड एक तरह का आईएफएससी कोड होता है, जो दो बैंकों के बीच सीधे लेनदेन की कोड होता है और बिना की कागज के वायर के जरिए इस कोड के सहारे पैसा एक बैंक से दूसरे बैंक में जाता है। पीएनबी के जिस स्विफ्ट कोड पर इंटेसा सानपोलो ने पैसा दिया है, उसे पंजाब नेशनल बैंक को 19 मार्च तक चुकाना है।

गुरुवार को जब पंजाब नेशनल बैंक के डायरेक्टर और सीईओ सुनील मेहता ने दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस की थी, तो उन्होंने भी कहा था कि उनके बैंक की तरफ से जारी एलओयू और एफएलसी पर धन देने वालों में एक को छोड़कर बाकी सारे भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाएं हैं। उन्होंने विदेशी बैंक का नाम नहीं बताया था। लेकिन अब इस बैंक का नाम सामने आया है और यह इटली का इंटेसा सानपोलो बैंक है।

इंटेसा सानपोलो बैंक को उसके पैसे मिलेंगे या नहीं, इस पर अभी कोई साफ रुख पीएनबी की तरफ से नहीं आया है। पीएनबी ने अभी तक उसकी ब्रांच से जारी एलओयू और एफएलसी के बदले भुगतान पर कोई कमिटमेंट नहीं दिखाया है। इसे लेकर इंडियन बैंकिंग एसोसिएशन भी असमंजस में है और इस मुद्दे पर बैठक कर कोई रणनीति बनाने वाला है।

नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कंपनियों की ओर से एलओयू और एफएलसी प्राप्त करने पर जिन भारतीय बैंकों की शाखाओं ने धन पीएनबी के विदेशी मुद्रा खातों में क्रेडिट कर दिया, जिसकी निकासी कंपनियों ने क्रेता साख के तहत की, उनमें भारतीय स्टेट बैंक की मॉरीशस और फ्रैंकफर्ट स्थित शाखाएं, बैंक ऑफ इंडिया की एंटवर्प स्थित शाखा, केनरा बैंक की बहरीन स्थित शाखा, एक्सिस बैंक की हांगकांग स्थित शाखा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की हांगकांग स्थित शाखा और यूको बैंक की हांगकांग स्थित शाखा शामिल हैं।

लोकप्रिय