जहांगीरपुरी हिंसाः अब अंसार के वित्तीय कनेक्शन खंगालेगी ED, दिल्ली पुलिस ने जांच के लिए लिखा पत्र

अगर ईडी पीएमएलए का मामला दर्ज करती है, तो अंसार के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी जांच शुरू की जा सकती है। उसके और उसके परिवार के सदस्यों द्वारा खरीदी गई सभी संपत्तियों की जांच की जाएगी। अगर इन्हें अपराध की आय की मदद से खरीदा गया था, तो संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली के पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पत्र लिखकर राजधानी दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई सांप्रदायिक हिंसा की जांच में हस्तक्षेप करने की मांग की है, क्योंकि संभवत: अवैध धन का इस्तेमाल 16 अप्रैल को दंगा करने के लिए किया गया था। सूत्रों के अनुसार, पत्र में विशेष रूप से गिरफ्तार आरोपी और हिंसा के कथित मास्टरमाइंड अंसार के नाम का उल्लेख है, जिसमें ईडी से आरोपी की अवैध संपत्ति की वित्तीय जांच शुरू करने का अनुरोध किया गया है।

आरोपित अंसार पर शक है कि उसने देश के विभिन्न स्थानों पर अवैध तरीके से धन अर्जित कर बड़ी संपत्ति अर्जित की है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा, "अगर वे पीएमएलए का मामला दर्ज करते हैं, तो अंसार के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी जांच शुरू की जा सकती है। उनके और उनके परिवार के सदस्यों द्वारा खरीदी गई सभी संपत्तियों की जांच की जाएगी। अगर इन्हें अपराध की आय की मदद से खरीदा गया था, तो संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।"


घटनाक्रम से जुड़े सूत्रों ने पहले दावा किया था कि पूछताछ के दौरान अंसार ने नशीली दवाओं के व्यापार में शामिल होने की बात कबूल की है। उन्होंने दावा किया कि अपने अवैध व्यापार के साथ, आरोपी ने पैसे की हेराफेरी की और इसका इस्तेमाल जहांगीरपुरी में गैंगस्टर जैसी छवि बनाने के लिए किया। अंसार ने शुरू में कबाड़ का कारोबार शुरू किया और बाद में इलाके में हेरोइन और स्मैक की आपूर्ति शुरू कर दी।

अंसार के खिलाफ प्रिवेंटिव ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज होने की पूरी संभावना है। वित्तीय जांच एजेंसी को उसकी संपत्ति को जब्त करने का भी अधिकार है जो संभवत: आपराधिक गतिविधियों के माध्यम से हासिल की गई थी। इस बीच अंसार का पश्चिम बंगाल कनेक्शन भी सामने आया है।

कथित तौर पर, अंसार के पास हल्दिया में एक आलीशान हवेली है, जो पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर जिले का एक प्रमुख औद्योगिक शहर है और वहां उसकी एक परोपकारी व्यक्ति की छवि है। हल्दिया के पास उसकी पत्नी के गांव में कई लोग उन्हें एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में याद करते हैं जिन्होंने अपना जीवन दूसरों के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया। अंसार ने यह भी सुनिश्चित किया कि दान कार्य करके उसकी यह छवि बरकरार रहे।


सूत्रों के अनुसार, मूल रूप से असम के रहने वाले अंसार ने एक ऐसी लड़की से शादी की, जिसका परिवार लंबे समय से गांव में रह रहा है। अपनी शादी के तुरंत बाद अंसार ने वहां एक हवेली बनाई। कुछ ग्रामीणों ने बताया कि अंसार आखिरी बार मार्च में गांव आया था। वह जब भी गांव जाता था तो दिल्ली के लिए रवाना होने से पहले उप ग्राम प्रधान से मिलता था। उप ग्राम प्रधान रफीक-उल-इस्लाम ने कहा कि अंसार अपनी यात्राओं के दौरान गरीबों को धन दान करता था, जिससे उसकी एक परोपकारी व्यक्ति की छवि बनती थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia