जेल में बंद महाठग सुकेश चंद्रशेखर ने दिल्ली एलजी को फिर लिखा पत्र, कहा- सत्येंद्र जैन को एक्सपोज...

सुकेश चंद्रशेखर के पत्र के अनुसार अधिकारियों ने कहा था, आपने सत्येंद्र जैन का पदार्फाश किया, अब हमारी बारी है, हम आपका वीडियो जारी करेंगे और दुनिया को दिखाएंगे कि हमारे द्वारा आपके साथ कैसा व्यवहार किया जाता है

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना को जेल में बंद कथित ठग सुकेश चंद्रशेखर ने एक और पत्र जारी किया है, जिसमें जेल अधिकारियों द्वारा अपने जेल सेल के सीसीटीवी फुटेज को अवैध रूप से लीक करने और जारी करने का दावा किया गया है। राष्ट्रीय राजधानी की मंडोली जेल में बंद चंद्रशेखर ने अपने पत्र में कहा है कि, उनके सेल फुटेज को लीक करना सुरक्षा का उल्लंघन है और उक्त लीक सहायक अधीक्षक और उप अधीक्षक द्वारा किया गया था।

चंद्रशेखर ने इसे एक तत्काल शिकायत बताते हुए आरोप लगाया है कि दोनों अधिकारी उन्हें धमकाने और मानसिक रूप से परेशान करने के लिए उनके सेल में गए थे और आर्थिक अपराध शाखा में उन्हें जो बताया था उसे वापस लेने के लिए कहा था। अपनी हस्तलिखित शिकायत में, कथित ठग ने कहा कि जेल में तलाशी एक नियमित प्रक्रिया है, लेकिन जिस तरह से इसे अंजाम दिया गया, जैसा कि फुटेज में देखा गया है, उनके प्रति उनके व्यवहार और व्यक्तिगत प्रतिशोध को दर्शाता है।


तलाशी के अगले दिन अधिकारियों ने अपने कार्यालय में जो कहा था, उसका हवाला देते हुए चंद्रशेखर ने लिखा कि सहायक अधीक्षक दीपक शर्मा ने पहले उन्हें चुनौती दी थी कि वह यातना का वीडियो जारी करेंगे। उनके पत्र के अनुसार अधिकारियों ने कहा था, आपने सत्येंद्र जैन का पदार्फाश किया, अब हमारी बारी है, हम आपका वीडियो जारी करेंगे और दुनिया को दिखाएंगे कि हमारे द्वारा आपके साथ कैसा व्यवहार किया जाता है।

चंद्रशेखर ने सवाल किया कि तीन महीने पुराना वीडियो उनकी प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत के दौरान ही क्यों लीक हुआ, जहां उन्होंने सत्येंद्र जैन की संलिप्तता का खुलासा किया। उन्होंने एल-जी को लिखे अपने पत्र में आगे कहा, उन दोनों (शर्मा और उप-अधीक्षक जय सिंह) को पहले जेल सुरक्षा धन के रूप में कुल 5.5 लाख रुपए मिले थे और इसे शिकायत के रूप में आपके कार्यालय में भी भेजा गया था।

उन्होंने आरोप लगाया कि शर्मा ने कई बार उनका पक्ष लिया है और पूर्व ने उन्हें जेल सुरक्षा धन के रूप में 30 लाख रुपए भी दिए हैं, जिसे बाद में उन्होंने अपने शरीर निर्माण गतिविधियों के लिए इस्तेमाल किया। उनके पत्र में आरोप लगाया गया है कि शर्मा के खिलाफ अन्य कैदियों द्वारा भ्रष्टाचार की कई शिकायतें हैं।


उन्होंने लिखा, अब उन्होंने जय सिंह के साथ मेरे मामले में चल रही ईडी की जांच से ध्यान हटाने के लिए सत्येंद्र जैन के निर्देश पर यह शरारत की है, जहां मैंने सत्येंद्र जैन की संलिप्तता का खुलासा किया है। उन्होंने एलजी से इस मामले को एक केंद्रीय एजेंसी को निर्देश देने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, मैं विनम्रतापूर्वक इस मामले को एक केंद्रीय एजेंसी को सौंपने का अनुरोध करता हूं और न्याय और सच्चाई के हित में दीपक शर्मा और जय सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार विरोधी ब्यूरो को भी भ्रष्टाचार की शिकायत करने का अनुरोध करता हूं।

उन्होंने आगे कहा, "मैं पूरी तरह से सहयोग करूंगा और जांच में इस संबंध में पर्याप्त सबूत प्रदान करूंगा, साथ ही मैं विनम्रतापूर्वक सीसीटीवी फुटेज के लीक होने के संबंध में एक जांच स्थापित करने का अनुरोध करता हूं क्योंकि यह इन अधिकारियों द्वारा अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए किया गया सुरक्षा का उल्लंघन है।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;