हम अडानी के हैं कौन: जयराम रमेश ने आज फिर पूछे 3 सवाल- क्या मोदी सरकार ने सेबी पर जांच धीमी करने के लिए दबाव डाला था?

कांग्रेस अडानी मामले पर पीएम मोदी से हर दिन तीन सवाल पूछ रही है। कांग्रेस ‘हम अडानी के हैं कौन' सीरीज के तहत हर दिन तीन सवाल पूछती है। इसी के तहत गुरुवार को कांग्रेस नेता जमराम रमेश ने पीएम मोदी से फिर से तीन सवाल पूछे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अडानी के मुद्दे पर लोकसभा और राज्यसभा में कांग्रेस के नेता पीएम मोदी से लगातार सवाल पूछ रहे हैं, लेकिन अब तक पीएम मोदी ने इस मामले पर एक शब्द भी नहीं बोला है। बुधवार को लोकसभा में और आज राज्यसभा में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने इस मुद्दे पर कुछ भी नहीं कहा। वहीं कांग्रेस पीएम मोदी से हर दिन तीन सवाल पूछ रही है। कांग्रेस ‘हम अडानी के हैं कौन'  सीरीज के तहत हर दिन तीन सवाल पूछती है। इसी के तहत गुरुवार को कांग्रेस नेता जमराम रमेश ने पीएम मोदी से फिर से तीन सवाल पूछे।

कांग्रेस महासचिव ने ट्वीट कर लिखा कि आपने जी 20 बैठक के दौरान में कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हुए, "आर्थिक अपराधियों के लिए सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म करने", " धन शोधन में संलिप्‍त लोगों का पता लगाने और उनका बिना शर्त प्रत्‍यार्पण करने" और "जटिल अंतरराष्ट्रीय विनियमों और अत्यधिक बैंकिंग गोप‍नीयता के मायाजाल को तोड़ने के लिए विश्‍व के नेताओं से आह्वान किया था, जो भ्रष्टाचारियों और उनके कार्यों को छिपाता है।” लेकिन जब बात आपके अपने पूंजीपति मित्रों की आती है तो आप कुछ नहीं बोलते।

रमेश ने अपने पोस्ट में आगे लिखा कि, “भारतीय पूंजी बाजारों की सुरक्षा के लिए भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) जैसे बाजार नियामकों की विफलता ने उनकी छवि को धूमिल किया है और भारत के वित्तीय बाजारों की पवित्रता पर प्रश्न चिह्न लगाया है।“ इसके बाद जयराम रमेश ने पीएम मोदी से तीन सवाल पूछे।


पहला सवाल- क्या मोदी सरकार ने सेबी पर जांच धीमी करने के लिए दबाव डाला था?

कांग्रेस नेता ने अपने पहले सवाल में पूछा, "अडानी समूह के खिलाफ" खुल्‍लम-खुल्‍ला स्टॉक में हेरफेर" के गंभीर आरोप हैं। इन आरोपों के सार्वजनिक रूप से उजागर होने के बाद सूचीबद्ध शेयरों की कीमतों में गिरावट ने उन लाखों खुदरा निवेशकों को वित्तीय रूप से नुकसान पहुंचाया है, जिन्होंने कृत्रिम रूप से बढ़ी हुई कीमतों पर अडानी समूह के शेयरों में निवेश किया था। 24 जनवरी और 6 फरवरी 2023 के बीच अडानी समूह के शेयरों के मूल्य में ₹9,50,000 करोड़ तक की गिरावट आई। 19 जुलाई 2021 को, वित्त मंत्रालय ने संसद में स्वीकार किया था कि अडानी समूह सेबी के नियमों का उल्लंघन करने के लिए जांच के दायरे में है। फिर भी उसके बाद अडानी समूह के शेयरों की कीमतों में उछाल आने दिया गया। कब सेबी को इस गंभीर चूक और खुदरा बचत को नष्ट करने की अनुमति देने के लिए जवाबदेह ठहराया जाएगा? क्या मोदी सरकार ने सेबी पर जांच धीमी करने के लिए दबाव डाला था?"

दूसरा सवाल- गौतम अडानी ने सेबी चेयरपर्सन के साथ व्यक्तिगत रूप से क्या चर्चा की?

जयराम रमेश ने पीएम मोदी से दूसरा सवाल किया कि, "काले धन के अवैध प्रवाह पर नकेल कसने की आपकी सभी बातों के बावजूद, आपके पसंदीदा व्यवसाय समूह पर सेबी के नियमों को दरकिनार करते हुए विदेशी शेल कंपनियों और संबंधित पार्टियों को निवेश निधि के रूप में प्रस्तुत करके स्टॉक की कीमतों में हेरफेर करने का आरोप है। इनमें से एक गंभीर मामला मॉन्टेरोसा समूह का है, जिसके पास अडानी समूह के स्टॉक के $4.5 बिलियन (₹37,000 करोड़) तक का स्वामित्व है। इस स्वतंत्र फर्म के सीईओ कथित रूप से एक भगोड़े हीरा व्यापारी से जुड़े हुए हैं, जिसके बेटे की शादी विनोद अडानी की बेटी से हुई है। अन्य बड़े फंड लगभग अनन्य रूप से अडानी समूह की कंपनियों में निवेश करने के लिए जाने जाते हैं, जो एक निवेश फंड के लिए असामान्य बात है। इलारा कैपिटल को ही लें, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के भाई और पूर्व कंजर्वेटिव मंत्री जो जॉनसन हाल तक इसके निदेशक थे। इलारा के पास लगभग विशिष्‍ट रूप से अडानी समूह का $3 बिलियन (₹24,300 करोड़) का स्टॉक था। वित्त मंत्रालय ने संसद को बताया कि सेबी ने 2016 में मॉन्टेरोसा समूह द्वारा संचालित कुछ फंडों के खातों को फ्रीज कर दिया था, लेकिन आगे कोई कार्रवाई होने के संबंध में स्थिति स्‍पष्‍ट नहीं है। सेबी ने इन संदिग्ध बेनामी कंपनियों की समुचित जांच करने के लिए क्या किया है? यदि नहीं, तो अडानी समूह में ऐसा क्या है जिसने भारत के नियामकों और जांच एजेंसियों को पूरी ताकत से सच्चाई को उजागर करने से रोक रखा है? अक्टूबर 2022 में गौतम अडानी ने सेबी चेयरपर्सन माधबी पुरी बुच के साथ व्यक्तिगत रूप से क्या चर्चा की?"


तीसरा सवाल- क्या एनएसई और सेबी पर अडानी को उबारने के प्रयास में नरमी बरतने का दबाव है?

उन्होंने अपने तीसरे सवाल में कहा, "सितंबर 2022 में व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के निफ्टी 50 इंडेक्स में अडानी एंटरप्राइजेज का शामिल होना विवादास्पद साबित हुआ। इसमें संदेहास्पद बुनियादी सिद्धांत थे, अत्यधिक कीमत-से-कमाई अनुपात और एक छोटा फ्री फ्लोट। अडानी एंटरप्राइजेज ने सजग निफ्टी इंडेक्स फंड्स को इस जोखिम भरे स्टॉक की खरीदारी करने के लिए मजबूर किया, जिसमें कर्मचारी भविष्य निधि संगठन, भारत का सबसे बड़ा पेंशन फंड शामिल है। हाल के दिनों में वैश्विक शेयर सूचकांकों ने मामले की जांच के दौरान अडानी समूह की कंपनियों को निलंबित कर दिया है, लेकिन एनएसई निवेशकों की सुरक्षा के लिए ऐसी कोई कार्रवाई करने में विफल रहा है। क्या सख्त कार्रवाई करके निवेशकों की सुरक्षा करना सेबी की जिम्मेदारी नहीं है? क्या एनएसई और सेबी पर अडानी को उबारने के प्रयास में नरमी बरतने का प्रधानमंत्री कार्यालय का दबाव है?"

बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने अडानी मामले पर हर रोज तीन सवालों की एक सीरीज शुरू की है। इसे नाम दिया है- 'हम अडानी के हैं कौन?' कांग्रेस नेता जयराम रमेश हर दिन ट्वीट कर पीएम मोदी अडानी को लेकर तीन सवाल पूछते हैं।  

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;