तमिलनाडु में जानलेवा बनी जल्लीकट्टू की परंपरा, सांड ने दो लोगों को कुचलकर मार डाला

तमिलनाडु में पोंगल उत्सव के दौरान जल्लीकट्टू का आयोजन होता है। पोंगल तमिलनाडु का सबसे बड़ा फसल उत्सव है और नए तमिल वर्ष के आगमन का प्रतीक है। तमिलनाडु राज्य के कई जिलों में जल्लीकट्टू के कई छोटे-बड़े आयोजन होते हैं, जिनमें लोगों की भारी भागीदारी होती है।

तमिलनाडु में जल्लीकट्टू के दौरान सांड ने दो लोगों को कुचलकर मार डाला
तमिलनाडु में जल्लीकट्टू के दौरान सांड ने दो लोगों को कुचलकर मार डाला
user

नवजीवन डेस्क

तमिलनाडु में नए तमिल वर्ष के आगमन पर मनाए जाने वाले उत्सव पोंगल के मौके पर राज्य भर में जल्लीकट्टू के आयोजन की परंपरा इस बार जानलेवा साबित हुई है। शिवगंगा जिले के सिरावायल में बुधवार को जल्लीकट्टू के दौरान एक सांड ने दो लोगों को कुचलकर मार डाला।

शिवगंगा जिले के सिरावायल में आज जल्लीकट्टू के दौरान जिन दो लोगों की मौत हुई है उसमें एक 11 वर्षीय लड़का और एक 30 वर्षीय व्यक्ति शामिल है। जल्लीकट्टू आयोजन के दौरान कार्यक्रम स्थल के प्रवेश बिंदु के पास एक गुस्सैल सांड ने उन्हें कुचलकर घायल कर दिया, जिससे दोनों वहीं गिर पड़े।


सांड के हटने के बाद भीड़ में से लोगों ने कूद कर दोनों को वहां से हटाया और तुरंत दोनों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी। इस घटना से सिरावायल में जल्लीकट्टू का जश्न मातम में बदल गया। दोनों मृतकों के परिवार में मातम का सन्नाटा पसर गया है।

तमिलनाडु में पोंगल उत्सव के दौरान जल्लीकट्टू या बैल को वश में करने का आयोजन किया जाता है। पोंगल तमिलनाडु का सबसे बड़ा फसल उत्सव है और एक नए तमिल वर्ष के आगमन का प्रतीक है। तमिलनाडु राज्य के कई जिलों में जल्लीकट्टू के कई छोटे-बड़े आयोजन होते हैं, जिनमें लोगों की भारी भागीदारी होती है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;