जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने और 15 अगस्त से ठीक पहले सुरक्षा बेहद कड़ी, राज्यपाल ने बताया कब दी जाएगी ढील

जम्मू-कश्मीर में मौजूदा हालात को देखते हुए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। गौरतलब है कि धारा 370 हटाए जाने के बाद घाटी में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को भेजा गया था। जो अभी भी घाटी में तैनात हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद घाटी में तनाव के माहौल को देखते हुए सुरक्षा कड़ी है। 15 अगस्त के मद्देनजर घाटी में सुरक्षा और कड़ी कर दी गई है। कश्मीर में कुछ इलाकों में धारा 144 लागू है तो कई संवेदनशील इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है। कश्मीर में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। सरकार का दावा है कि घाटी में आतंकी, घटनाओं को अंजाम देने की फिराक में हैं। जबसे जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को हटाया गया है। घाटी में सुरक्षा बेहद कड़ी है, कई चीजों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने और 15 अगस्त से ठीक पहले सुरक्षा बेहद कड़ी, राज्यपाल ने बताया कब दी जाएगी ढील

मौजूदा हालात पर प्रदेश के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि 15 अगस्त के बाद राज्य में लगे प्रतिबंधों में धीरे-धीरे ढील दी जाएगी। उन्होंने दावा किया कि अगले 10 दिनों के अंदर घाटी की स्थिति काफी हद तक ठीक हो जाएगी।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने और 15 अगस्त से ठीक पहले सुरक्षा बेहद कड़ी, राज्यपाल ने बताया कब दी जाएगी ढील

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद घाटी में हालात तनावपूर्ण हैं। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद वहां के माहौल को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं। एक ओर सरकार लगातार दावा कर रही है कि जम्मू-कश्मीर में शांति है तो दूसरी ओर कई मीडिया रिपोर्ट्स यह खुलासे कर रहे हैं कि कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद कई जगहों पर हिंसा हुई।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने और 15 अगस्त से ठीक पहले सुरक्षा बेहद कड़ी, राज्यपाल ने बताया कब दी जाएगी ढील

घाटी में माहौल तनावपूर्ण इससे जुड़ी एक रिपोर्ट भी सामने आई थी। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि बीते जुमे की नमाज के बाद पत्थरबाजी हुई थी और पुलिस की ओर से फायरिंग की गई थी। रिपोर्ट सामने आने के बाद सरकार ने शुरू में हिंसा की खबर को नकार दिया था। लेकिन अब सरकार ने मान लिया है कि कश्मीर में हिंसा हुई है। गृह मंत्रालय ने माना है कि जुमे की नमाज के बाद कश्मीर में पत्थरबाज़ी हुई थी, लेकिन पुलिस ने कोई फायरिंग नहीं की थी। गृह मंत्रालय की प्रवक्ता की ओर से जारी ट्वीट में कहा गया है, “मीडिया में श्रीनगर के सौरा इलाके में घटना की खबरें आई हैं। 9 अगस्त को कुछ लोग स्थानीय मस्जिद से नमाज के बाद लौट रहे थे। उनके साथ कुछ उपद्रवी भी शामिल थे। अशांति फैलाने के लिए इन लोगों ने बिना किसी उकसावे के सुरक्षाकर्मियों पर पत्थरबाज़ी की। लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने संयम दिखाया और क़ानून व्यवस्था बनाए रखने की कोशिश की।”

घाटी में मौजूदा हालात को देखते हुए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। गौरतलब है कि धारा 370 हटाए जाने के बाद घाटी में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को भेजा गया था। जो भी भी घाटी में तैनात हैं।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने और 15 अगस्त से ठीक पहले सुरक्षा बेहद कड़ी, राज्यपाल ने बताया कब दी जाएगी ढील
Published: 14 Aug 2019, 9:13 AM
लोकप्रिय