जम्मू-कश्मीर: नए साल पर भी घाटी में हरकतों से बाज नहीं आए आतंकी, नौशेरा में सर्च ऑपरेशन के दौरान दो जवान शहीद

जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में एलओसी के समीप बुधवार को सशस्त्र पाकिस्तानी घुसपैठियों के साथ मुठभेड़ में सेना के दो जवान शहीद हो गए। अधिकारियों ने बताया कि घुसपैठियों को खारी थरयाट जंगल में उस समय रोका गया जब वे पाकिस्तान के कब्जे वाले पीओके से भारत में घुसने की कोशिश कर रहे थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जम्मू-कश्मीर में राजौरी जिला के नौशेरा क्षेत्र में आतंकवादियों से मुठभेड़ में दो सैनिक शहीद हो गए। एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। मंगलवार को सुरक्षा बलों को नौशेरा में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी, जिसके बाद उन्होंने तत्काल घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू कर दिया।

दोनों तरफ से देर रात तक गोलीबारी हुई और बुधवार सुबह दो सैनिकों के शव मिले। क्षेत्र में और बल तैनात कर घेराबंदी कर दी गई है और अभियान जारी है। नौशेरा नियंत्रण रेखा (एलओसी) के करीब है और पूर्व में आतंकवाद का केंद्र रहा है।

मंगलवार को जम्मू एवं कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने कहा कि राज्य में 250 आतंकवादी सक्रिय हैं, जिनमें से 100 विदेशी और बाकी स्थानीय हैं।

बता दें कि मंगलवार को जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा था कि राज्य में 2019 में 160 आतंकवादी मारे गये और 102 गिरफ्तार किये गये। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में 250 आतंकवादी अब भी सक्रिय हैं लेकिन आतंकवाद से जुड़ने वाले युवाओं में कमी आयी है।

लोकप्रिय
next