हालात

मसूद अजहर को अमेरिका ने बताया अंतरराष्ट्रीय आतंकी, यूएनएससी की बैठक में ग्लोबल आतंकी घोषित करने पर फैसला आज

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता रॉबर्ट पालाडिनो ने कहा कि मसूद अजहर जैश-ए-महम्मद का संस्थापक और नेता है, और वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्धारित अंतराष्ट्रीय आतंकियों के मानदंडों को तहत आता है। जेईएम कई आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार रहा है।

फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

संयुक्त राष्ट्र में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसदू अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जाने पर आज फैसला लिया जाना है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक से पहले अमेरिका ने मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी बताया है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता रॉबर्ट पालाडिनो ने कहा, “अमेरिका और भारत आतंकवाद के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र में मिलकर काम करते हैं। जैश-ए-मोहम्मद और उसके संस्थापक के बारे में हमारे विचार बेहद साफ हैं। जेईएम एक संयुक्त राष्ट्र-नामित आतंकवादी समूह है।”

रॉबर्ट पालाडिनो ने कहा, “मसूद अजहर जैश-ए-महम्मद का संस्थापक और नेता है, और वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा निर्धारित अंतराष्ट्रीय आतंकियों के मानदंडों को तहत आता है। जेईएम कई आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार रहा है और क्षेत्रीय स्थिरता और शांति के लिए खतरा है।”

रॉबर्ट ने अपने बयान में कहा कि अमेरिका और चीन इस बात पर सहमत हैं कि क्षेत्र में शांति स्थापित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मसूद अजहर पर बैन नहीं लगा तो शांति का मुहिम फेल हो सकता है।

पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने पर आज संयुक्त राष्ट्र में फैसला लिया जाएगा। अगर चीन अड़ंगा नहीं लगाता है तो इस बात की पूरी उम्मीद है कि आतंकी मसूद अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर दिया जाएगा। 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के किसी भी सदस्य द्वारा कोई आपत्ति नहीं जताई गई तो आज दोपहर जैश-ए-मोहम्मद का चीफ मसूद अजहर पर प्रतिबंधित लगाया जा सकता है।

गौरतलब है कि मसूद अजहर को अंतरराष्ट्री आतंकी घोषित करने के लिए पहले भी प्रस्ताव लाया जा चुका है, लेकिन हर बार चीन ने अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर जैश के सरगना को बचाया। पुलवामा आतंकी हमले के बाद एक बार फिर मसूद अजहर को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने को लेकर यूएनएससी में अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन फिर प्रस्ताव लाए हैं।

Published: 13 Mar 2019, 10:37 AM
लोकप्रिय