झारखंड: उन्मादी भीड़ ने पीट-पीटकर मुस्लिम युवक को मार डाला था, लेकिन पुलिस रिपोर्ट में हिंसा का जिक्र तक नहीं

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायर हुआ था। वीडियो में भीड़ मुस्लिम युवक को बेहरमी से पीटती हुई दिखाई दे रही है। लोग पीड़ित को ‘जय श्री राम’ बोलने के लिए कहते हुए दिख दे रहे हैं। पुलिस इस वीडियो को आधार मानते हुए मामले की जांच कर रही है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

झारखंड के सरायकेला में भीड़ द्वारा की गई मुस्लिम युवक की हत्या के मामले में जो पुलिस परिजनों को इंसाफ दिलाने का दम भर रही है। खबरों के मुताबिक, उसी पुलिस ने शिकायत में इस बात का जिक्र तक नहीं किया है कि मुस्लिम युवक तबरेज पर भीड़ ने हमला किया था। मामले की जांच कर रही पुलिस ने युवक को अनपी रिपोर्ट में चोरी का आरोपी बताया है।

इस घटना से जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर वायर हुआ था। वीडियो में भीड़ मुस्लिम युवक को बेहरमी से पीटती हुई दिखाई दे रही है। कुछ लोग पीड़ित को ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ बोलने के लिए कहते हुए दिखाई दे रहे हैं। पुलिस इस वीडियो को आधार मानते हुए मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने मामले में अब तक 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार, मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। साथ ही इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में दो पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। निलंबित पुलिस कर्मी खरसावां और सिनी पुलिस थानों में तैनात थे, जिस इलाक में इस वारदात को अंजाम दिया गया था।

गौरतलब है कि 17 जून को भीड़ ने तबरेज अंसारी नाम के मुस्लिम युवक की चोरी के शक में कई घंटों तक पिटाई की थी। इस दौरान उससे जय श्रीराम के नारे भी लगवाए गए। युवक को 18 जून को पुलिस के हवाले किया गया था। पुलिस ने युवक को कोर्ट में पेश किया, जहां से कोर्ट ने युवक को न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। खबरों के मुताबिक, युवक को 22 जून को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

Published: 25 Jun 2019, 11:51 AM
लोकप्रिय