जोशीमठ बचाओ संघर्ष समिति ने भू-धंसाव के लिए NTPC को ठहराया जिम्मेदार, सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

आंदोलनकारियों की मांग है कि जोशीमठ में एनटीपीसी के द्वारा निमार्णाधीन विष्णुगाड़ परियोजना का कार्य तत्काल बंद करवाया जाए।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

जोशीमठ शहर में भू-धंसाव दायरा लगातार बढ़ता जा रहा है। भू-धंसाव का दायरा बढ़ने से यहां के लोगों में दहशत है। जोशीमठ बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले प्रभावितों का जोशीमठ तहसील परिसर में लगातार आंदोलन जारी है। जोशीमठ बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष अतुल सती ने इस भू-धंसाव के लिए एनटीपीसी की तपोवन विष्णुगाड़ परियोजना को जिम्मेदार ठहराया है। आंदोलनकारियों की मांग है कि जोशीमठ में एनटीपीसी के द्वारा निमार्णाधीन विष्णुगाड़ परियोजना का कार्य तत्काल बंद करवाया जाए। उनका कहना है कि तपोवन विष्णुगाड़ परियोजना की निर्माणदायी संस्था एनटीपीसी को जिम्मेदार मानते हुए उन पर जुर्माना लगाया जाए।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

जोशीमठ बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष ने बताया कि बीते 20 वर्षों से एनटीपीसी की विष्णुगाड़ परियोजना का विरोध किया जा रहा है। लोगों को भय था कि एक दिन यही परियोजना जोशीमठ के विनाश का कारण बनेगी। इसरो द्वारा जारी रिपोर्ट के बारे में कहा कि यह रिपोर्ट जोशीमठ के लिए चिंताजनक है। सरकार तथ्यों को जनता से छिपा रही है। प्रभारी मंत्री धन सिंह रावत के आग्रह पर इसरो ने अपनी आधिकारिक साइट से रिपोर्ट को हटा भी लिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

समिति के अध्यक्ष ने बताया कि विष्णुगाड़ परियोजना 10 हजार करोड़ रुपये की है, इसलिए एनटीपीसी पर 20 हजार करोड़ रुपये का जुर्माना लगाकर वो पैसा जोशीमठ की जनता में बांटा जाए। इस आपदा से निपटना अब राज्य सरकार के बस में नहीं है। पिछले 14 महीनों में सरकार के काम करने के तरीके से वो समझ गए हैं कि इतनी बढ़ी आपदा से निपटने में राज्य सरकार सक्षम नहीं है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

उन्होंने इस संबंध में आज भारत सरकार को एक ज्ञापन प्रेषित किया है, जिसमें उन्होंने मांग की है कि प्रधानमंत्री स्वयं इस आपदा से निपटने की जिम्मेदारी लें और केंद्रीय स्तर पर एक हाई पावर कमेटी का गठन करें, ताकि नए जोशीमठ के निर्माण और लोगों के विस्थापन की दिशा में उचित निर्णय लिया जा सके।


हाल ही में सचिव मुख्यमंत्री आर मीनाक्षी सुंदरम ने पीसी करके बताया था कि जोशीमठ में अब दरारें आनी रुक गई हैं। इस पर समिति के अध्यक्ष ने कहा कि जिस दिन सुंदरम ने पीसी की, उसी दिन सिंहधार में स्टेट बैंक के पीछे की कॉलोनी में दरार आई, उसके दूसरे दिन फिर दरार आई। कल रात भी लोगों ने आवाजें महसूस की हैं। जोशीमठ में भू-धंसाव का सिलसिला लगातार बढ़ रहा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;