#MeToo में वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का भी नाम आया, ‘द वायर’ ने शुरु की अंदरूनी जांच

वरिष्ठ पत्रकार और वर्तमान में द वायर के सलाहकार संपादक विनोद दुआ का नाम भी अब #MeToo में आया है। इस मुहिम के तहत एक महिला पत्रकार और डाक्यूमेंट्री फिल्मकार निष्ठा जैन ने उन पर दुर्व्यवहार का आरोप लगाया है।

नवजीवन डेस्क

#MeToo अभियान में वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ का नाम आया है। एक महिला पत्रकार निष्ठा जैन ने आरोप लगाया है कि 1989 में विनोद दुआ ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उन्हें किस करने की कोशिश की। निष्ठा जैन ने रिवार को एक फेसबुक पोस्ट में विस्तार से इस घटना के बारे में लिखा है। द वायर की इंटरनल कंपलेंट कमेटी ने इस पोस्ट का संज्ञान लेते हुए जांच शुरु कर दी है।

निष्ठा जैन ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि, “वे जून 1989 में विनोद दुआ से एक नौकरी के सिलसिले में मिली थीं, जब वे जनवाणी नाम का एक कार्यक्रम किया करते थे। जब वे उनसे मिली तब बातचीत की शुरुआत में ही दुआ ने धीमी आवाज़ में एक अश्लील चुटकुला सुनाया। निष्ठा ने लिखा है कि उन्हें याद नहीं कि वो क्या था, लेकिन वह बहुत घटिया था। इसके बाद जब दुआ ने उनसे पूछा कि उनकी वेतन को लेकर क्या उम्मीद है. निष्ठा के ‘पांच हज़ार रुपये’ जवाब देने पर दुआ ने उनसे कहा, ‘तुम्हारी औकात क्या है?’

निष्ठा ने आगे लिखा है, ‘मैं उनकी इस बात पर दंग रह गयी। मैंने यौन उत्पीड़न देखा था पर मुझे कभी इस तरह अपमानित नहीं किया गया था।’ उन्होंने आगे लिखा है कि इसके बाद उन्हें दूसरी नौकरी मिल गयी। एक रात पार्किंग में विनोद दुआ उनसे मिले और यह कहते हुए कि वे उनसे बात करना चाहते हैं, अपनी गाड़ी में बैठने को कहा।

निष्ठा ने लिखा है कि, “उन्हें लगा कि शायद दुआ अपने पिछले बर्ताव के लिए माफी मांगना चाहते हैं, इसलिए वे उनकी गाड़ी में बैठी। वे ठीक से बैठी भी नहीं थीं कि दुआ ने उन्हें चूमने की कोशिश की, जिसके बाद वो किसी तरह दुआ की गाड़ी से निकल गयीं।

निष्ठा ने लिखा है कि इसके बाद काफी समय तक दुआ ने उनका पीछा किया। निष्ठा एक डॉक्यूमेंट्री फिल्ममेकर हैं, जिनकी डॉक्यूमेंट्री ‘गुलाबी गैंग’ को 2 राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है।

विनोद दुआ एक मशहूर टीवी एंकर रहे हैं और इन दिनों द वायर पर ‘जन गण मन की बात’ कार्यक्रम करते हैं। दुआ ने इन आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि वे जल्द ही अपना पक्ष रखेंगे।

लोकप्रिय