कैलास मानरोवर यात्रा: नेपाल में फंसे 96 तीर्थयात्रियों का बचाया गया, 1229 श्रद्धालु अब भी फंसे 

कैलाश मानसरोवर यात्रा के दौरान नेपाल फंसे तीर्थयात्रियों में से 96 श्रद्धालुओं को सुरखेत से निकाल लिया गया है। भारतीय दूतावास का कहना है कि अगर मौसम ठीक रहा तो अगले 2 से 3 दिनों में बचाव कार्य पूरा हो जाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

कैलास मानसरोवर की यात्रा के दौरान फंसे भारतीय तीर्थयात्रियों में से बुधवार को 96 तीर्थयात्रियों को बचा लिया गया है। अब भी 1575 तीर्थयात्रियों में से 1229 तीर्थयात्री फंसे हुए हैं। इसके अलावा इस यात्रा के दौरान 2 तीर्थयात्रियों की मौत हो चुकी है।

खबरों के मुताबिक, कम से कम 73 भारतीयों तीर्थयात्रियों को बचाकर विमान से सुरखेत पहुंचाया गया है, तो बाकी 23 तीर्थयात्रियों को सुरक्षित जगह पहुंचाने के लिए चॉपर का इस्तेमाल किया गया। अगर मौसम ठीक रहता है तो बचाव कार्य अगले 2 से 3 दिनों के अंदर पूरा हो जाएगा। तीर्थयात्रियों को निकालने के लिए 11 विमान लगे हुए हैं। जिनमें दो कमर्शियल विमान भी शामिल है।

भारी बारिश के बाद कैलाश मानसरोवर यात्रा के रास्ते में 1500 से ज्यादा श्रद्धालु फंस गए थे। नेपाल में भारतीय दूतावास के आंकड़ों के अनुसार, मंगलवार को 525 तीर्थयात्री सिमिकोट, 550 तीर्थयात्री हिलसा और तिब्बत की तरफ करीब 500 श्रद्धालु फंसे हुए थे।

भारतीय दूतावास कहा है कि स्थिति नियंत्रण में बनी हुई है और घबराने की जरूरत नहीं है। दूतावास ने आज चार सदस्य टीम को नेपालगंज भेजा है। यह टीम सिमिकोट और हिलसा में फंसे तीर्थयात्रियों की सहायता के लिए अस्थायी कार्यालय स्थापित करेगी। अधिकारी ने बताया कि सिमिकोट और तिब्बत में दूतावास के दो-दो कर्मचारियों को तैनात किया गया है। उनके पास जरूरी सुविधाएं हैं जिनके जरिए वहां फंसे हुए भारतीय अपने घरों से संपर्क कर सकते हैं।

हॉट लाइन नंबर:

नेपाल में भारतीय दूतावास ने तीर्थयात्रियों और उनके परिवार के लिए हॉट लाइन नंबर जारी किए है। ये नंबर हैः 977-9851107006, +977-9851155007, +977-9851107021, +977-9818832398।

इसके अलावा दूतावास ने अन्य भाषाओं में भी जानकारी के लिए नंबर जारी किए हैं। कन्नड़- +977-9823672371, तेलुगु- +977-9808082292, तमिल- +977-9808500642, मलयालम- +977-9808500644

Published: 4 Jul 2018, 12:22 PM
लोकप्रिय