सीएम बोम्मई के गढ़ में आयोजित कन्नड़ साहित्य उत्सव विवादोंं में, मुस्लिम लेखकों की अनदेखी का आरोप, भारी विरोध

आरोप है कि अलग-अलग क्षेत्रों के 83 अचीवर्स में से किसी भी मुस्लिम लेखक को नहीं चुना गया है। मुख्य मंच पर नौ सेमिनारों में से किसी भी मुस्लिम लेखक को आमंत्रित नहीं किया गया है। कवि सम्मेलन में भी एक भी मुस्लिम लेखक को अवसर नहीं मिला है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

कन्नड़ साहित्य परिषद द्वारा आयोजित 86वें अखिल भारतीय कन्नड़ साहित्य सम्मेलन (अखिल भारतीय कन्नड़ साहित्य सम्मेलन) का शुक्रवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के पैतृक शहर हावेरी में बड़े धूमधाम से उद्घाटन किया गया। हालांकि तीन दिवसीय कन्नड़ साहित्य सम्मेलन मुस्लिम लेखकों और साहित्यकारों को दरकिनार करने और अनदेखी के लिए विवादों में घिर गया है।

सम्मेलन में पैनल अचीवर्स के चयन पर विवाद हो गया है, क्योंकि कई सोशल मीडिया यूजर्स ने पक्षपाती दृष्टिकोण की आलोचना की है। आरोप है कि अलग-अलग क्षेत्रों के 83 अचीवर्स में से किसी भी मुस्लिम लेखक को नहीं चुना गया है। मुख्य मंच पर नौ सेमिनारों में से किसी भी मुस्लिम लेखक को आमंत्रित नहीं किया गया है। कवि सम्मेलन में भी एक भी मुस्लिम लेखक को अवसर नहीं मिला है और तटीय कर्नाटक के मुसलमानों द्वारा बोली जाने वाली ब्यारी भाषा पर विचार नहीं किया गया है। जबकि कोंकणी, सोलिगा, तुलु और कोडवा जैसी अन्य बोलियों पर भी चर्चा हुई।


मुस्लिम लेखकों के प्रति इस 'पक्षपातपूर्ण दृष्टिकोण' का विरोध करते हुए कन्नड़ कार्यकर्ताओं और समान विचारधारा वाले साहित्यकारों ने 8 जनवरी को बेंगलुरु में एक दिवसीय समानांतर साहित्यिक सम्मेलन का आयोजन किया है। जाने-माने कन्नड़ लेखक भानु मुश्ताक को सम्मेलन का अध्यक्ष बनाने का निर्णय लिया गया है।

सम्मेलन का उद्घाटन दलित लेखक और सेवानिवृत्त नौकरशाह मूडनाकुडु चिन्नास्वामी करेंगे। कार्यक्रम पूर्व छात्र संघ के परिसर में के.आर. बेंगलुरु में सर्कल में आयोजित होगा। सम्मेलन को 'जन साहित्य सम्मेलन' (जन साहित्य सम्मेलन) नाम दिया गया है। 'भोजन पर प्रभुत्व और राजनीति', 'अल्पसंख्यकों और दलितों पर हमले', 'साहित्य जगत की जिम्मेदारियां', 'कन्नड़ भाषा में ईसाई मिशनरियों का योगदान' जैसे विषयों को चर्चा के लिए चुना गया है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;