करनाल महापंचायतः प्रशासन के साथ बैठक में नहीं निकला कोई नतीजा, किसान लघु सचिवालय का घेराव करने निकले

हरियाणा के करनाल में 28 अगस्त को किसानों पर लाठीचार्ज के खिलाफ आज किसान महापंचायत बुलाई गई है। मुजफ्फरनगर किसान महापंचायत में जुटी भारी भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने करनाल, कुरुक्षेत्र, पानीपत, कैथल और जींद में इंटरनेट बंद करने के साथ धारा 144 लगा दिया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के आह्वान पर करनाल में आयोजित किसान महापंचायत से पहले उपायुक्त (डीसी) के साथ हुई किसानों की बैठक में कोई नतीजा नहीं निकल पाया है। करनाल जिला प्रशासन से तीसरे दौर की वार्ता विफल होने के बाद अब किसानों ने मार्च निकालकर लघु सचिवालय का घेराव करने का फैसला लिया है। अनाज मंडी से भारी संख्या में किसानों ने जिला सचिवालय के लिए कूच कर दिया है।

जिला सचिवालय के घेराव का ऐलान अनाज मंडी के मंच से हुआ है। किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने मंच से ऐलान किया कि किसान पहले मार्च निकालेंगे और फिर जिला सचिवालय का घेराव करने पहुंचेंगे। सभी किसान नेताओं ने अनाज मंडी में मंच पर जाने से पहले एक बैठक की और घेराव का फैसला लिया।


वहीं हरियाणा के करनाल में आज आयोजित किसानों की महापंचायत पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का बयान आया है। मुख्यमंत्री ने किसानों और सरकारी प्रतिनिधियों के बीच सार्थक बातचीत की उम्मीद जताई है। मुख्यमंत्री ने कहा, "मुझे लगता है कि कोई न कोई रास्ता निकल जाएगा।"

बता दें कि हरियाणा के करनाल में 28 अगस्त को किसानों पर हुए लाठीचार्ज के खिलाफ किसानों ने आज महापंचायत बुलाई है। हाल ही में मुजफ्फरनगर में हुई किसानों की महापंचायत में जुटी ऐतिहासिक भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने करनाल, कुरुक्षेत्र, पानीपत, कैथल और जींद में सोमवार रात से इंटरनेट बंद कर दिया है और धारा 144 लगा दिया है। इसके अलावा अंबाला-दिल्ली हाइवे पर कई जगह रूट बदल दिए गए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia