कर्नाटक चुनाव करीब आते ही अपनी बिसात बिछाने में जुटे कुमारस्वामी, फिर किंगमेकर बनकर उभरने की आस

जेडीएस वोक्कालिगा बेल्ट, यानी दक्षिण कर्नाटक क्षेत्र से अपनी ताकत हासिल करता है। सत्तारूढ़ बीजेपी साधारण बहुमत हासिल करने के लिए राज्य के दक्षिणी क्षेत्र में पैठ बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। हालांकि अब तक उसके प्रयास विफल रहे हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कर्नाटक विधानसभा चुनाव नजदीक आने के साथ ही कर्नाटक में राजनीतिक परिदृश्य पेचीदा होता जा रहा है। एक ओर जहां बीजेपी और कांग्रेस में सीधी लड़ाई तीखी होती जा रही है, वहीं डार्क हॉर्स जेडीएस के नेता एचडी कुमारस्वामी की निगाहें एक बार फिर राज्य में किंगमेकर बनकर उभरने पर है। जेडीएस नेताओं को उम्मीद है कि मौजूदा हालात को देखते हुए वे विधानसभा की 25 से 35 सीटों पर जीत दर्ज करेंगे। यह दोनों राष्ट्रीय दलों को गठबंधन के लिए उसके दरवाजे पर दस्तक देने के लिए मजबूर करेगा।

जेडीएस पहले कांग्रेस और बीजेपी दोनों के साथ गठबंधन सरकार बना चुकी है। पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी और पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा ने कहा है कि चुनाव के बाद दोनों राष्ट्रीय दलों के नेता उनके पास आएंगे। कुमारस्वामी ने राज्यव्यापी दौरा पंचरत्न यात्रा की शुरुआत की और पूरे राज्य में सार्वजनिक रैलियों को संबोधित किया। वह उत्तरी कर्नाटक सहित पूरे दौरे के दौरान अच्छी संख्या में लोगों को आकर्षित करने में सफल रहे।


जेडीएस वोक्कालिगा बेल्ट, यानी दक्षिण कर्नाटक क्षेत्र से अपनी ताकत हासिल करता है। सत्तारूढ़ बीजेपी साधारण बहुमत हासिल करने के लिए राज्य के दक्षिणी क्षेत्र में पैठ बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। हालांकि अब तक उसके प्रयास विफल रहे हैं। पूर्व सीएम बीएस येदियुरप्पा के कार्यकाल में हालांकि पार्टी ने मांड्या, हासन और रामनगर जिलों में सीटें जीतकर पैठ बनाई, लेकिन ज्यादातर लोग जेडीएस के साथ मजबूती से खड़े रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कर्नाटक के लोगों से जेडीएस) को वोट नहीं देने के लिए कह रहे हैं।

वहीं, पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा ने कसम खाई है कि वह यह देखेंगे कि आगामी चुनावों में जेडीएस सत्ता हासिल करे। हालांकि, जेडीएस में भी सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। देवेगौड़ा की बहू भवानी रेवन्ना के चुनाव लड़ने को लेकर पारिवारिक विवाद खुलकर सामने आ गया है। भवानी रेवन्ना हासन सीट से खड़े होने के लिए पूरी तरह तैयार हैं, जो वर्तमान में बीजेपी के पास है। कुमारस्वामी कई कारणों से भवानी रेवन्ना को टिकट देने के इच्छुक नहीं हैं। जेडीएस विधायक सूरज रेवन्ना उनसे अप्रत्यक्ष रूप से पूछताछ कर रहे हैं। भवानी पूर्व मंत्री एच.डी. देवेगौड़ा के बड़े बेटे एच.डी. रेवन्ना की पत्नी हैं। रेवन्ना के बड़े बेटे प्रज्वल रेवन्ना सांसद हैं।


वहीं कुमारस्वामी अपने बेटे निखिल कुमारस्वामी को रामनगर सीट से विधायक के लिए मैदान में उतारने के लिए तैयार हैं, जो वर्तमान में उनकी पत्नी अनीता कुमारस्वामी के पास है। पारिवारिक राजनीति की बात करें तो कुमारस्वामी ने राष्ट्रीय दलों पर हमला बोलते हुए कहा है कि वह कांग्रेस और बीजेपी द्वारा मैदान में उतारे जा रहे परिवार के सदस्यों की एक लंबी सूची जारी करेंगे। कुमारस्वामी ने कहा कि उनके परिवार के सदस्य लोगों द्वारा चुने गए हैं, वे पिछले दरवाजे से प्रवेश नहीं कर रहे हैं।

कई वरिष्ठ नेताओं के पार्टी छोड़कर कांग्रेस या बीजेपी में शामिल होने के बाद जेडीएस) के अस्तित्व का सवाल खड़ा हो गया। अपने नेतृत्व का एक बड़ा हिस्सा खोने के बाद भी, पार्टी राष्ट्रीय दलों को कड़ी टक्कर दे रही है। यह भी देखना होगा कि क्या वोक्कालिगा समुदाय, जो पूर्व पीएम देवेगौड़ा के साथ मजबूती से खड़ा है, शिवकुमार को मौका देगा, जो वोक्कालिगा भी हैं, जिन्हें कांग्रेस द्वारा सीएम उम्मीदवार के रूप में पेश किया जा रहा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;