हिजाब विवाद: कर्नाटक में वार्निंग के बावजूद हिजाब पहनकर कॉलेज पहुंची छात्राएं, 6 निलंबित, 12 वापस भेजी गईं

हिजाब दिशानिर्देशों का बार-बार उल्लंघन करने पर उप्पिनंगडी गवर्नमेंट प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज की छह छात्राओं को निलंबित कर दिया गया है। कॉलेज के प्राचार्य ने कॉलेज के प्राध्यापकों के साथ बैठक करने के बाद हिजाब वाली छात्राओं को निलंबित करने का फैसला लिया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में अधिकारियों ने कई चेतावनियों के बावजूद हिजाब पहनने पर गुरुवार को एक कॉलेज की 6 छात्राओं को निलंबित कर दिया और दूसरे कॉलेज में 12 छात्राओं को कक्षाओं से वापस घर भेज दिया गया। हिजाब दिशानिर्देशों का बार-बार उल्लंघन करने पर उप्पिनंगडी गवर्नमेंट प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज की छह छात्राओं को निलंबित कर दिया गया है। कॉलेज के प्राचार्य ने कॉलेज के प्राध्यापकों के साथ बैठक करने के बाद हिजाब वाली छात्राओं को निलंबित करने का फैसला लिया।

निलंबित 6 छात्राओं को सरकारी आदेश और कक्षाओं में हिजाब पहनने पर रोक लगाने वाले हाईकोर्ट के फैसले की जानकारी दी गई। दूसरी घटना में, हम्पनाकट्टे के पास मंगलुरु यूनिवर्सिटी कॉलेज के पिं्रसिपल ने हिजाब पहनकर आईं 16 छात्राओं को कक्षाओं में जाने की अनुमति दी, उन्हें वापस घर भेज दिया।

कॉलेज के अधिकारियों ने बताया कि सिंडिकेट की बैठक में यह फैसला लिया गया। इससे पहले, बुधवार को छात्राएं जिला आयुक्त के कार्यालय गई थीं और हिजाब पहनकर कक्षाओं में प्रवेश नहीं करने देने की शिकायत की थी।

आयुक्त ने उन्हें सरकार के नियमों और कोर्ट के आदेश का पालन करने की सलाह दी। हालांकि, छात्राएं नहीं मानीं और गुरुवार को हिजाब पहनकर कॉलेज पहुंच गईं।

उडुपी प्री-यूनिवर्सिटी गवर्नमेंट गर्ल्स कॉलेज की 6 छात्राओं द्वारा शुरू किया गया हिजाब विवाद राज्य में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोर रहा है। इस मामले की सुनवाई के लिए गठित हाईकोर्ट की विशेष पीठ ने कक्षाओं में हिजाब सहित किसी भी धार्मिक प्रतीक को पहनकर कक्षाओं में जाने के खिलाफ फैसला सुनाया था। अदालत ने स्कूलों में हिजाब पहनने की अनुमति मांगने वाली छात्राओं द्वारा दायर याचिका को भी खारिज कर दिया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia