कासगंज हिंसाः नफरत और हिंसा भड़काने के आरोप में व्हाट्सऐप ग्रुप का एडमिन गिरफ्तार

गणतंत्र दिवस के दिन उत्तर प्रदेश के कासगंज में हुई हिंसा को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। हिंसा भड़काने की नीयत से गलत खबर फैलाने के आरोप में पुलिस ने एक व्हाट्सएप ग्रुप के एडमिन को गिरफ्तार किया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के कासगंज में हुई हिंसा को लेकर रोज नये खुलासे सामने आ रहे हैं। किस तरह इलाके के कुछ युवाओं के बीच हुए मामूली विवाद को सांप्रदायिक हिंसा का रूप दे दिया गया, इस साजिश पर से अब धीरे धीरे पर्दा उठ रहा है। इसी कड़ी में कासगंज पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार किया है, जो सोशल मीडिया के जरिये शहर में हिंसा भड़काने की कोशिश कर रहा था।

गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम राम सिंह है, जो एक व्हाट्सएप ग्रुप का एडमिन है और सोशल मीडिया के जरिये नफरत फैलाने की कोशिश कर रहा था। पुलिस ने बताया कि राम सिंह को व्हाट्सऐप ग्रुप में हिंसा भड़काने वाला वीडियो शेयर करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। राम सिंह ने ग्रुप में आगजनी का एक वीडियो पोस्ट कर उसके कैप्शन में काफी भड़काऊ भाषा का इस्तेमाल किया था।

कासगंज में हिंसा की आग थमने के बाद जिले के एसपी ने सोशल मीडिया के जरिये हिंसा भड़काने वालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। कासगंज एसपी के अनुसार, भड़काऊ वीडियो शेयर करने वाले इसी व्हाट्सऐप ग्रुप के एक और सदस्य अजय गुप्ता की भी तलाश की जा रही है, जो अभी फरार है। कासगंज पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार किए गए राम सिंह और फरार आरोपी ने एक धार्मिक स्थल में आगजनी का वीडियो बनाकर पोस्ट किया था। इन्होंने कई ग्रुप में भड़काऊ कैप्शन के साथ इस वीडियो को शेयर करने के अलावा और भी कई तस्वीरें शेयर की हैं। पुलिस ने बताया कि ये लोग व्हाट्सएप पर भड़काऊ बातें लिखकर आगजनी का वीडियो कई ग्रुप में डाल रहे थे। जिसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की और राम सिंह को गिरफ्तार कर लिया। इस संबंध में पुलिस ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर लोगों से भी ऐसे लोगों के बारे में जानकारी देन की अपील की है।

फोटोः नवजीवन
फोटोः नवजीवन
कासगंज पुलिस द्वारा जारी की गई अपील

बता दें कि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन कासगंज में हिंसा भड़क गई थी। इस दौरान चंदन गुप्ता नाम के युवक की गोली लगने से मौत हो गई। जिसके बाद हिंसा और ज्यादा भड़क गई, और दंगाइयों ने कई दुकानों और मकानों में आगजनी और लूटपाट की। फिलहाल कासगंज में स्थिति शांत है, लेकिन तनाव अभी भी बरकरार है। इस बीच 5 फरवरी को कासगंज में एक बार फिर एक धार्मिक स्थल को नुकसान पहुंचाने की घटना सामने आई। हालांकि, घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने स्थिति को पूरी तरह से अपने नियंत्रण में ले लिया। इस मामले में कड़ी कार्रवाई करते हुए कासगंज एसपी ने इलाके के तीन चौकी प्रभारियों को लाइन हाजर कर दिया है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;