कठुआ: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, अगर मामले की निष्पक्ष सुनवाई होती नहीं दिखी तो ट्रांसफर कर देंगे केस

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि अगर उन्हें जरा सा भी लगा कि इस मामले की निष्पक्ष सुनवाई नहीं हो रही है तो वह इस केस को ट्रांसफर कर देंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कठुआ गैंगरेप मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उनका प्राथमिक मकसद यह है कि मामले की सुनवाई निष्पक्ष और तेजी से हो और इससे दोनों ही पक्ष राजी हों। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि अगर उन्हें जरा सा भी लगा कि इस मामले की निष्पक्ष सुनवाई नहीं हो रही है तो वह इस केस को बाहर ट्रांसफर कर देंगे।

कोर्ट ने आरोपियों की भी उस याचिका को भी मंजूर कर लिया है, जिसमें मामले की सुनवाई चंडीगढ़ ट्रांसफर न करने और मामले की जांच सीबीआई को सौंपने का आग्रह किया गया है। इस पर फिर से कोर्ट 27 अप्रैल को सुनवाई करेगा।

इस बीच बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने जम्मू बार एसोसिएशन के वकीलों के खिलाफ लगे आरोपों को खारिज कर दिया है। उन पर पीड़िता की वकील दीपिका सिंह राजावत को धमकाने और पुलिस को अदालत में चार्जशीट दाखिल न करने देने के लिए रोकने का आरोप लगा था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 26 Apr 2018, 1:53 PM