खड़गे ने पंजाब पहुंचकर किसानों की थपथपाई पीठ, कहा- आपके आंदोलन ने किसानी बचा ली

दिल्ली की सीमाओं पर किसान आंदोलन के पहुंचने से पहले आज पंजाब पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि एक तय तरीके से किसानों को खत्म करने की साजिश रची जा रही थी। लेकिन आप लोगों के आंदोलन ने किसानी को बचा लिया।

खड़गे ने पंजाब पहुंचकर किसानों की थपथपाई पीठ, कहा- आपके आंदोलन ने बचा ली किसानी
खड़गे ने पंजाब पहुंचकर किसानों की थपथपाई पीठ, कहा- आपके आंदोलन ने बचा ली किसानी
user

नवजीवन डेस्क

पंजाब के किसान एक बार फिर दिल्ली के आसपास के हाईवे को घेरने की तैयारी कर रहे हैं। 13 जनवरी को किसान दिल्ली की सीमा पर पहुंचने वाले हैं। दूसरी तरफ पंजाब पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने किसानों को बधाई दी है कि उन्होंने केंद्र सरकार के लाए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई लड़ी जिसे बाद में केंद्र सरकार को वापस लेना पड़ा।

पंजाब के समराला लुधियाना में एक सभा को संबोधित करते हुए मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि एक तय तरीके से किसानों को खत्म करने की साजिश रची जा रही थी। लेकिन आप लोगों के आंदोलन ने किसानी को बचा लिया। खड़गे ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में आजादी के बाद पहली बार, हर किसान पर 25,000 रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से टैक्स लगाया गया। उन्होंने कहा कि ‘पीएम फसल बीमा योजना’ को निजी इंश्योरेंस कंपनी का मुनाफा योजना बनाया गया। 2016 से 2022 के बीच बीमा कंपनियों ने 40,000 करोड़ रुपए कमाए।


मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि अंग्रेजों के जमाने में आरएसएस-बीजेपी के लोगों ने उनकी मदद की। गांधी जी के भारत छोड़ो आंदोलन में भी अंग्रेजों की मदद की। वो रोज उठकर कांग्रेस और राहुल गांधी को गालियां देते हैं। जो व्यक्ति पदयात्रा निकालता है उसको भला-बुरा कहते हैं। क्यों ? जबकि उन्होंने सरकार में कोई पद तो नहीं लिया है!

खड़गे ने आगे कहा कि संत रविदासजी ने कहा था कि हम ऐसा राज चाहते हैं, जहां संविधान का शासन हो, लोकतंत्र हो। उन्होंने कहा कि युवा बेरोजगार हैं। 30 लाख सरकारी पद खाली पड़े हैं। इसमें से 15 लाख पद दलित, आदिवासी, अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों को मिल जाते इसलिए वो यह भर्ती नहीं कर रहे हैं। इसीलिए ऐसी सरकार को उखाड़कर फेंक देना चाहिए और डॉ मनमोहन सिंह जैसी सरकार वापस आनी चाहिए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;