टिड्डी हमले की 6 महीने पहले से थी जानकारी, लेकिन सोती रही हरियाणा की खट्टर सरकार: भूपिंदर सिंह हुड्डा

टिड्डी दल हमला करने वाला है, इसकी आशंका और जानकारी 6 महीने पहले से थी, लेकिन हरियाणा की खट्टर सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी रही और किसानों को उनके हाल पर छोड़ दिया। यह आरोप पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपिंदर सिंह हुड्डा ने लगाया है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

धीरेंद्र अवस्थी

राजस्थान होते हुए टिड्‌डी दल महेंद्रगढ़ के रास्ते हरियाणा में प्रवेश कर गया और सरकार की तैयारियां धरी रह गईं। सवाल यह उठा है कि महीनों पहले से राज्‍य में मंडरा रहे इस खतरे के बावजूद सरकार ने क्‍या किया? तथाकथित सतर्कता के नाम पर सरकारी तंत्र क्‍या करता रहा? पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने टिड्डी दल का हमला रोकने में सरकार को पूरी तरह नाकाम बताया है।

उनका कहना है कि 6 महीने पहले जानकारी होने के बावजूद सरकार ने कोई तैयारी नहीं की। अगर वक्त रहते इस हमले से निपटनेके लिए क़दम उठाए जाते तो किसानों को बड़े नुकसान से बचाया जा सकता था। लेकिन सरकार जानकारी होने के बावजूद हाथ पर हाथ धरे बैठी रही है। आख़िरी वक़्त पर किसानों के खेतों को किसान के भरोसे छोड़ दिया गया। ख़ुद कुछ करने की बजाए सरकार की तरफ से किसानों से ही ताली और थाली बजवाने की अपील की गई। इसलिए राजस्थान के रास्ते पाकिस्तान की तरफ से आए टिड्डी दल ने महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, गुड़गांव, मेवात और फरीदाबाद की तरफ काफ़ी नुकसान पहुंचाया। बाजरा, कपास, सौंठ और दूसरी फसलों को तबाह कर दिया।

नेता प्रतिपक्ष ने मांग उठाई है कि सरकार सभी ज़िलों में हुए नुकसान की स्पेशल गिरदावरी करवाए और फौरन किसानों को मुआवज़े का भुगतान करे। भुगतान में किसी तरह की कोताही या लेटलतीफ़ी नहीं बरती जानी चाहिए। क्योंकि इससे पहले भी प्रदेश में कई बार बेमौसी बारिश और ओलावृष्टि से खेती को नुकसाल हो चुका है, लेकिन सरकार ने किसानों को उसका मुआवज़ा आज तक नहीं दिया। कभी कुदरत की बेरुख़ी, कभी टिड्डी का हमला, कभी सरकारी नीतियों की मार तो कभी पेट्रोल-डीजल की महंगाई का बोझ, किसान पर आज चौतरफ़ा नुकसान की मार पड़ रही है, इसलिए ज़रूरी है कि किसानों को सरकार कोई राहत दे। हुड्डा ने कहा कि सरकार किसान के हालात को समझे और उसे लगातार हो रहे नुकसान की बिना कोई देरी के भरपाई करे।

टिड्डी दल शुक्रवार को राजस्थान होते हुए महेंद्रगढ़ के रास्ते हरियाणा में प्रवेश कर गया। 10 किलोमीटर लंबे व 6 किलोमीटर चौड़े क्षेत्र में फैले दल ने नारनौल-रेवाड़ी के तकरीबन तीन दर्जन गांवों की सैंकड़ों एकड़ फसल को नुकसान पहुंचाया है। हरियाणा में घुसा टिड्डी दल शनिवार को गुड़गांव से फरीदाबाद पहुंच गया। शाम तक यह सोनीपत से होते हुए पानीपत तक पहुंच सकता है। इस टिड्डी दल में 60 लाख टिड्डियां बताई जा रही हैं।

लोकप्रिय
next