खट्टर ने किसानों का 'इलाज' करने वाला बयान लिया वापस, अन्नदाताओं को लाठी-डंडे से जवाब देने का किया था आह्वान

इससे पहले बीजेपी के किसान मोर्चा को संबोधित करते हुए खट्टर ने कहा था कि 1000 लोगों को लाठी के साथ राज्य के विभिन्न स्थानों पर वॉलेंटियर समूह बनाना चाहिए और केंद्र द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने वाले किसानों का 'इलाज' करना चाहिए।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शुक्रवार को लाठी-डंडे उठाने और आंदोलनकारी किसानों से लड़ने वाले अपने 'विवादास्पद' बयान को वापस लेने का ऐलान किया है। खट्टर ने कहा कि उनकी सरकार का उद्देश्य कानून-व्यवस्था बनाए रखना है।

चंडीगढ़ में माता मनसा देवी शक्तिपीठ के अपने दौरे के दौरान मुख्यमंत्री खट्टर ने मीडिया से कहा कि उन्हें आत्म-साक्षात्कार है कि देवी "हम सभी की रक्षा करेंगी। इसलिए उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया है, जिसमें उन्होंने जरूरत पड़ने पर आत्मरक्षा की अपील की थी।"


सीएम खट्टर ने किसानों के खिलाफ लाठी-डंडों से लैस समूह बनाने के बयान को वापस लेने का ऐलान करते हुए कहा कि उनकी सरकार का मुख्य उद्देश्य कानून-व्यवस्था बनाए रखना है। उन्होंने कहा कि उन्होंने देश और राज्य के सभी नागरिकों की सुख-समृद्धि के लिए माता मनसा देवी से प्रार्थना की है।

इससे पहले, बीजेपी के किसान मोर्चा की राज्य इकाई को संबोधित करते हुए खट्टर ने कहा था कि 1,000 लोगों को लाठी के साथ राज्य के विभिन्न स्थानों पर वॉलेंटियर समूह बनाना चाहिए और केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने वाले किसानों का 'इलाज' करना चाहिए। उन्होंने कहा था, "लाठी उठाओ और उन उग्र किसानों को जवाब दो। हम सब कुछ देखेंगे।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia