लखीमपुर हिंसाः कल शहीद किसानों की अंतिम अरदास, संयुक्त किसान मोर्चा ने मंत्री की बर्खास्तगी तक आंदोलन का किया ऐलान

किसान मोर्चा ने कहा कि कल लखीमपुर खीरी में शहीदों के लिए प्रार्थना के बाद मोर्चा अपनी घोषित कार्य योजना के साथ आगे बढ़ेगा। बीजेपी-आरएसएस द्वारा सांप्रदायिक कार्ड खेलकर किसान आंदोलन को समाप्त या कमजोर नहीं किया जा सकता है। देश के किसान संघर्ष में एकजुट हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

संयुक्त किसान मोर्चा ने मंगलवार को 'शहीद किसान दिवस' करार देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के तिकुनिया में कल लखीमपुर खीरी हिंसा के शहीदों की अंतिम अरदास होगी। किसान मोर्चा ने पूरे देश में समर्थकों से अपनी जान गंवाने वाले किसानों को मोमबत्ती की रोशनी में श्रद्धांजलि देने की अपील की है।

किसान मोर्चा ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "तिकुनिया में प्रार्थना सभा में हजारों किसानों के शामिल होने की उम्मीद है। किसान मोर्चा देश भर के किसान संगठनों और अन्य प्रगतिशील समूहों से देश भर में मोमबत्ती की रोशनी में प्रार्थना और श्रद्धांजलि सभा आयोजित करके शहीद किसान दिवस को चिह्न्ति करने की अपील करता है।"

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा में किसानों और एक पत्रकार सहित नौ लोगों की मौत हो गई थी। आरोप है कि किसानों के विरोध के दौरान केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा ने अपने वाहन से कई किसानों को कुचल दिया था, जिसके बाद इलाके में हिंसा भड़क उठी थी। इस घटना के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।

यह कहते हुए कि मोदी सरकार के लिए यह शर्मनाक है कि मंत्री को अभी तक बर्खास्त नहीं किया गया है, संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा, "लखीमपुर खीरी की घटना के कारण आपराधिक मामलों का उनका पिछला इतिहास लोगों की नजरों में आ गया है। यह स्पष्ट है कि लखीमपुर खीरी नरसंहार में उनकी भूमिका थी। वह उनके ही वाहन थे, जो काफिले में थे, जिन्होंने निर्दोष लोगों को मार डाला।"


संगठन ने आगे आरोप लगाते हुए कहा, "तथ्य यह है कि टेनी ने शत्रुता, घृणा और वैमनस्य को बढ़ावा देने की कोशिश की थी, जो कि 25 अक्टूबर को तराई क्षेत्र के सिखों के खिलाफ उनके भाषण से स्पष्ट होता है। उस समय एक जनसभा में, जहां वे गर्व से अपने आपराधिक इतिहास का भी जिक्र कर रहे थे, उनका भाषण डराने-धमकाने वाला था और इसके आधार पर अब तक कड़ी कार्रवाई हो जानी चाहिए थी, जिससे लखीमपुर खीरी हत्याकांड के पूरे प्रकरण को रोका जा सकता था।"

किसान मोर्चा ने पहले ही सोमवार को मंत्री को बर्खास्त करने और गिरफ्तार करने की समय सीमा के बारे में एक अल्टीमेटम जारी किया था। इसने इससे पहले कहा था, "कल, लखीमपुर खीरी में नरसंहार के शहीदों के लिए आयोजित प्रार्थना सभाओं में, मोर्चा अपनी घोषित कार्य योजना के साथ आगे बढ़ेगा। मोर्चा दोहराता है कि बीजेपी-आरएसएस द्वारा अपना सांप्रदायिक कार्ड खेलकर किसान आंदोलन को समाप्त या कमजोर नहीं किया जा सकता है। देश के किसान अपने संघर्ष में एकजुट हैं।"


किसान मोर्चा ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश पुलिस कई किसानों और किसान नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने से रोकने के लिए उनकी आवाजाही पर रोक लगा रही है। प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के विरोध की प्रत्याशा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती के संकेत देने वाली रिपोर्ट पर मोर्चा ने कहा, "यह वास्तव में खेदजनक है कि न्याय बहाल करने और विरोध प्रदर्शनों को तेज करने से रोकने वाले कार्यों का आश्वासन देने के बजाय, यूपी सरकार विरोध प्रदर्शन रोकने की तैयारी कर रही है। मोर्चा ने इसे बीजेपी की ओर से अपने नेताओं को बचाने की कवायद करार दिया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia