लखीमपुर हिंसाः सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद बदले यूपी पुलिस के सुर, आशीष मिश्रा की जल्द गिरफ्तारी का किया दावा

रविवार को लखीमपुर खीरी में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों पर कथित तौर पर केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा ने अपनी जीप चढ़ा दी थी, जिससे चार किसानों की मौके पर मौत हो गई और उसके बाद भड़की हिंसा में पांच और लोगों की मौत हो गई।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी हिंसा मामले पर सुप्रीम कोर्ट के स्वतः संज्ञान लेने के बाद यूपी पुलिस के सुर बदल गए हैं। लखनऊ रेंज की आईजी लक्ष्मी सिंह ने गुरुवार को कहा कि पुलिस केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा की तलाश कर रही है और उसे जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा। वहीं पुलिस अब तक कहती रही थी कि वह लखीमपुर खीरी कांड की जांच कर रही है और उचित समय पर आवश्यक कार्रवाई करेगी।

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को मामले मेंं स्वतः संज्ञान लेते हुए सुनवाई की और राज्य सरकार से कहा कि वह यह बताए कि प्राथमिकी में किन लोगों के नाम हैं और उन्हें गिरफ्तार किया गया है या नहीं। इसके बाद आईजी लक्ष्मी सिंह ने कहा कि लखीमपुर खीरी हिंसा की प्राथमिकी में हत्या के आरोप में नामजद आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के लिए तलाश की जा रही है और हम उसे जल्द गिरफ्तार करने का प्रयास कर रहे हैं। लक्ष्मी सिंह ने कहा, "जांच आगे बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो और जानकारी की भी जांच-पड़ताल की जा रही है।"


प्राथमिकी में दावा किया गया है कि आशीष मिश्रा ने लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर गोलियां चलाई थीं और वह किसानों को कुचलने वाली कार में भी मौजूद थे। जबकि आशीष मिश्रा ने घटना के बाद मीडिया से कहा कि मैं सुबह नौ बजे से इवेंट के अंत तक बनवारीपुर में था। उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ आरोप पूरी तरह से निराधार हैं और मैं इस मामले की न्यायिक जांच की मांग करता हूं और दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।

बता दें कि रविवार को लखीमपुर में किसान महाराजा अग्रसेन इंटर कॉलेज के खेल मैदान में केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने के लिए एकत्र हुए थे।
उन्होंने उस दिन वहां एक कार्यक्रम में शामिल होने आ रहे केंद्रीय मंत्री और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को काले झंडे दिखाने की योजना बनाई थी।

इसी दौरान जब किसान विरोध कर रहे थे, उसी समय आशीष मिश्रा की कार ने कथित तौर पर तेज गति से गुजरते हुए कई किसानों को कुचल दिया था, जिससे चार किसानों की मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना से लखीमपुर खीरी में मौके पर ही हिंसा भड़क गई, जिसमें चार और लोगों की मौत हो गई।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia