माघ मेला टाउनशिप में जमीन आवंटन बना सिरदर्द, क्षेत्र सिकुड़ने के बावजूद 3,000 धार्मिक संगठनों ने दिया आवेदन

अधिकारियों ने बताया कि सभी पांच सेक्टर में भूमि आवंटन का काम चल रहा है। नदी के तेज बहाव के चलते मिट्टी कटाव की समस्या से निपटने के लिए मेला अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था की है और विभिन्न संगठनों के शिविरों को सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरित किया जा रहा है।

 फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

गंगा की धारा का मार्ग बदलने की वजह से भले ही माघ मेला टाउनशिप के लिए भूमि सिकुड़ गई हो, लेकिन इसके बावजूद 3,000 से अधिक धार्मिक, सामाजिक और आध्यात्मिक संगठनों ने 47 दिनों तक चलने वाले इस आयोजन में अपने-अपने शिविर स्थापित करने के लिए जमीन की मांग की है। अधिकारियों ने कहा कि मिट्टी के कटाव की समस्या अभी भी बनी हुई है, जिसके चलते मेला अधिकारियों को वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

जिलाधिकारी (माघ मेला) शेषमणि पांडेय ने बताया कि सभी पांच सेक्टरों में भूमि आवंटन का कार्य चल रहा है। पांडे ने कहा कि नदी के तेज बहाव के कारण मिट्टी के कटाव की समस्या का सामना करने के बाद मेला अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था की है और विभिन्न संगठनों के शिविरों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित किया जा रहा है।


हालांकि, उन्होंने कहा कि आने वाले महीने भर चलने वाले आयोजन में तीर्थयात्रियों, भक्तों और विजिटर्स को सभी प्रकार की सुविधाएं दी जाएंगी और सभी विभाग एक दूसरे के साथ समन्वय कर रहे हैं और 13 पुलिस स्टेशन और 36 पुलिस चौकी स्थापित करने का काम भी प्रगति पर है। माघ मेला 1 जनवरी से शुरू होकर 1 मार्च तक चलेगा।

इस बार मेला प्रशासन ने टेंट में रहने वाले संतों, तीर्थयात्रियों और 'कल्पवासियों' को दी जा रही सुविधाओं की जांच के लिए मेला अधिकारियों और तीसरे पक्ष की एक संयुक्त टीम को शामिल करने का फैसला किया है। अधिकारियों ने दावा किया कि यह अभ्यास मेला अधिकारियों को पारदर्शिता बनाए रखने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि भक्तों और तीर्थयात्रियों को सुविधाओं और सेवाओं के मामले में लाभ मिल सके।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia