कोरोना के कहर के बीच तैरते शवों का उत्तर प्रदेश के जिलों में किया गया अंतिम संस्कार, संख्या का अब तक खुलासा नहीं

बलिया की जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने कहा कि नराली पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत गंगा में बलिया-बक्सर पुल के नीचे क्षत-विक्षत शवों की सूचना पर उप-विभागीय मजिस्ट्रेट सदर और सर्कल अधिकारी सदर ने तलाशी अभियान चलाया। आधिकारियों ने हालांकि शवों की कुल संख्या का खुलासा नहीं किया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

यूपी के गाजीपुर और बलिया जिलों में गंगा नदी से बरामद हुए सभी शवों का अंतिम संस्कार कर दिया गया और यह पता लगाने के लिए जांच शुरू की गई कि नदी में शवों को कहां से बहाया गया था। बलिया की जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने कहा कि नराली पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत गंगा में बलिया-बक्सर पुल के नीचे क्षत-विक्षत शवों की सूचना पर उप-विभागीय मजिस्ट्रेट सदर और सर्कल अधिकारी सदर ने तलाशी अभियान चलाया। आधिकारियों ने हालांकि शवों की कुल संख्या का खुलासा नहीं किया।

शव सोमवार शाम नदी में तैरते हुए पाए गए और अधिकारियों को बलिया के नरही थाना अंतर्गत उजियार और भरौली के पास बड़ी संख्या में क्षत विक्षत शव मिले। बलिया और गाजीपुर जिले के अधिकारियों द्वारा गंगा और उसकी सहायक नदियों में संयुक्त खोज अभियान चलाया गया, जिसमें कर्मनाशा भी शामिल है, जब स्थानीय लोगों ने प्रशासन को नदी में तैरते हुए कई शवों के बारे में सूचना दी।


बिहार के बक्सर में अधिकारियों ने सोमवार को दावा किया कि गंगा नदी में तैरते शव यूपी से आ रहे हैं। निरीक्षण के दौरान, गाजीपुर-बक्सर सीमा पर गंगा में संगम से पहले कर्मनाशा नदी में सात शवों को देखा गया था।

जिला मजिस्ट्रेट गाजीपुर एमपी सिंह ने कहा, "सभी शवों को जला दिया गया है और संदेह है कि कुछ दिन पहले उनकी मौत हुई है। यह पता लगाना मुश्किल है कि नदियों में शवों का निस्तारण कहां से किया गया था, लेकिन हमने पुलिस से यह पता लगाने के लिए कहा है क्या हमारे क्षेत्र के ग्रामीण ऐसा कर रहे हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia