बेकाबू हुआ किसानों का ट्रैक्टर मार्च, लाठीचार्ज, आंसू गैस के गोले दागने के बाद दिल्ली में मचा बवाल!

किसानों द्वारा निकाले गए ट्रैक्टर मार्च बेकाबू हो गया है। ये स्थिति पुलिस द्वारा किए गए लाठी चार्ज और आंसू गैस के गोले दागने के बाद हुई है। वहीं खबर है कि दिल्ली के कई इलाकों में पुलिस द्वारा इस तरह आंसू गैस के गोले दागे जा रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

पवन नौटियाल

देश के इतिहास में पहली बार ऐसा देखा गया है जब दिल्ली की सड़कों पर अपने हक के लिए लड़ रहे किसानों पर पुलिस की ओर से लाठीचार्ज किया गया हो। ट्रैक्टर रैली की इजाजत मिलने के बाद भी कई जगहों पर पुलिस द्वारा रोके जाने का आरोप लगाया गया है। वहीं किसानों की ओर से विरोध करने के बाद पुलिस ने कई जगहों पर किसानों पर लाठी भांजी, जिसके बाद किसान तितर बितर हो गए।

दिल्ली के अलग अलग जगहों से ऐसी कई तस्वीरें आई है। जहां पुलिस द्वारा किसानों को जमकर मारा जा रहा है। पुलिस द्वारा किसानों को खदेड़ने के बाद किसानों का रूट पूरी तरह से बदल गया है। अपनी जान बचाने के लिए किसान अलग अलग रूट पर निकल गए हैं। वहीं कुछ किसान आईटीओ की तरफ निकल गए। जहां पुलिस और किसानों के बीच में झड़प देखने को मिली। आईटीओ में हालात बेकाबू हो गए हैं।

टिकरी से मार्च पर निकले किसानों के लिये जो तय रूट बनाया गया था नांगलोई, नजफगढ, बहादुरगढ से होते हुये वापस टीकरी बार्डर का उसको किसानों ने नांगलोई बैरिकेड पर आकर तोड़ दिया। पुलिस लगातार समझाती रही, किसान नेताओं ने भी समझाने की पूरी कोशिश की लेकिन भीड़ काफ़ी उग्र हो गयी और बैरिकेड तोड़ डाले। अब ये किसान पश्चिम विहार होते हुये रिंग रोड की तरफ़ बढ़ रहे हैं।

वहीं ट्रैक्टर रैली के दौरान कुछ स्थानों पर हिंसा की घटनाओं के बारे में पूछे जाने पर भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि रैली शांतिपूर्वक चल रही है। मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं है। हम गाजीपुर में हैं और यहां ट्रैफिक को लगातार आगे बढ़ा रहे हैं।

दिल्ली में बेकाबू होते इस ट्रैक्टर रैली के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो के कई स्टेशन को बंद कर दिया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय