लेबनानः तबाही वाले विस्फोट के महीने भर बाद फिर दहला बेरुत, पोर्ट पर भीषण आग के बाद धुंए के गुबार से मची दहशत

बेरूत बंदरगाह में गुरुवार को भीषण आग लगने की घटना सामने आई, जिससे शहर एक बार फिर दहल गया। खबरों के मुताबिक आग की वजह से बेरूत के आसमान में घना काला धुंआ छा गया, जिससे चारों तरफ अफरातफरी मच गई। आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

एक महीने पहले हुए तबाह कर देने वाले विस्फोट से लेबनान की राजधानी बेरूत अभी उबर भी न पाई है कि गुरुवार को राजधानी में घने धुएं के एक गुबार ने फिर से सबको दहला दिया। खबरों के मुताबिक बेरुत बंदरगाह पर एक बड़ी आग भड़क उठी, जिसका धुंआ पूरे बेरूत के आसमान में फैल गया।

रॉयटर्स की खबर के मुताबिक पोर्ट के ड्यूटी फ्री जोन में एक विस्फोट हुआ, जिससे आग भड़क उठी। इस धमाके की वजह से लोगों में अफरातफरी मच गई। वहीं अल जजीरा के अनुसार, बेरूत बंदरगाह में भीषण आग लगने की घटना सामने आई है। जिसकी वजह से आसमान में काला धुंआ छा गया। फिलहाल आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

आग और उसका धुंआ इतना जबर्दस्त था कि देखते ही देखते चारों तरफ हंगामा मच गया और कई लोग जान बचाकर भागने लगे। रॉयटर्स के मुताबिक धमाके की वजह लोगों में अफरातफरी मच गई और कई लोगों को शहर से भागते हुए देखा गया। क्योंकि पिछले महीने भी बंदरगाह पर आग लगने के बाद शुरू हुए विस्फोट से वो लोग अभी तक उबर नहीं पाए हैं।

बाद में सेना ने कहा कि तेल और टायर की एक दुकान में लगी आग की लपटें फैल गई थीं, जिससे धुंए का गुबार फैल गया। हालांकि यह भी कहा गया कि आग का कारण तुरंत स्पष्ट नहीं हो पाया था, जिससे अफरातफरी मच गई। टेलीविजन फुटेज में आग पर पानी गिराते सेना के हेलीकॉप्टर को देखा गया, जबकि दमकलकर्मियों ने जमीन पर आग बुझाने की कोशिश की।

बता दें कि एक महीने पहले 4 अगस्त को बेरूत पोर्ट पर हुए भयंकर विस्फोट में लगभग 190 लोग मारे गए थे और 6,000 लोग घायल हुए थे। बेरुत में हुए उस विस्फोट की वजह से शहर बुरी तरह खाक हो गया था। दरअसल बंदरगाह के वेयरहाउस में करीब सात साल से 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट रखा हुआ था, जिसमें धमाका हो गया था।

लोकप्रिय
next