दिल्ली के तुगलकाबाद में फिर देखा गया तेंदुआ, लोगों को किया गया अलर्ट, चार महीने पहले भी मचा चुका है हड़कंप

राजधानी दिल्ली में पहले भी अक्सर तेंदुए देखे जा चुके हैं। पिछले महीने महरौली में एक तेंदुआ देखा गया था, जबकि जनवरी में नजफगढ़ इलाके में कई सीसीटीवी में भी कैद हुआ था। असोला भट्टी वन्यजीव अभयारण्य में कितने तेंदुए हैं, इसकी जानकारी वन विभाग को नहीं है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजधानी दिल्ली के घनी आबादी वाले इलाके तुगलकाबाद में असोला भट्टी वन्यजीव अभयारण्य के पास एक तेंदुआ देखा गया है, जिसके बाद इलाके में हड़कंप मच गया है। वन अधिकारियों ने आसपास के रिहायशी इलाकों के लोगों के लिए अलर्ट जारी किया है। दक्षिण वन प्रभाग (असोला भट्टी वन्यजीव अभयारण्य) के एक अधिकारी ने बताया कि तेंदुए को आखिरी बार 8 सितंबर को संगम विहार इलाके में देखा गया था और तब से वन्यजीव अधिकारी इसके वर्तमान स्थान का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि तुगलकाबाद वन कार्यालय से लगभग 250 मीटर की दूरी पर लगे एक कैमरे के ट्रैप में कैद होने के बाद वन अधिकारियों को इस क्षेत्र में तेंदुए की मौजूदगी का पता चला है। कैमरा ट्रैप की तस्वीरों में तेंदुए को इलाके में अंधेरे में घूमते हुए देखा गया है।


वहीं उप रेंज अधिकारी, दक्षिण वन प्रभाग, ताजउद्दीन ने कहा कि हो सकता है कि तेंदुआ इस क्षेत्र से दूर चला गया हो, लेकिन आस-पास के क्षेत्रों के लोगों को सलाह दी जाती है कि सूर्यास्त के बाद अपने घरों से बाहर निकलते समय सतर्क रहें। उन्होंने कहा कि आसपास के गांवों के लोगों को अपने घरों से बाहर निकलते समय सावधान रहने और अपने घरों के मुख्य दरवाजे बंद रखने के लिए कहा गया है, खासकर सूर्यास्त के बाद।

अलर्ट संगम विहार, जेजे कॉलोनी, संजय कॉलोनी, भट्टी माइंस और आसपास के अन्य इलाकों के लिए जारी किया गया है। वनपाल ने कहा कि पिछले चार महीने में यह दूसरा मौका है, जब इलाके में तेंदुआ देखा गया है। इससे पहले, एक तेंदुए को इलाके में एक चट्टान के ऊपर बैठे देखा गया था। उन्होंने कहा कि हो सकता है तेंदुआ शिकार के दौरान यहां आया होगा क्योंकि इस क्षेत्र में कई हिरण पाए जाते हैं।


गौरतलब है कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पहले भी तेंदुए अक्सर देखे जा चुके हैं। पिछले महीने महरौली में एक तेंदुआ देखा गया था, जबकि जनवरी में यह नजफगढ़ इलाके में कई सीसीटीवी में कैद हुआ था। असोला भट्टी वन्यजीव अभयारण्य में कितने तेंदुए मौजूद हैं, इसकी जानकारी वन विभाग को नहीं है। दिल्ली के वन अधिकारियों ने कहा कि अभयारण्य में तेंदुए की आबादी का आकलन करने के लिए कई कैमरा ट्रैप लगाए गए हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;