टेस्ट घटाकर और लॉकडाउन की सख्ती बढ़ाकर संक्रमण पर काबू करने की कोशिश केजरीवाल सरकार की नाकामी का सबूत: कांग्रेस

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि राजधानी में टेस्ट की संख्या घटाकर और लॉकडाउन की सख्तियां बढ़ाना केजरीवाल सरकार की नाकामी का सबूत है। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी ने कहा कि यह दिल्ली सरकार की रणनीतिक चूक है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने दिल्ली सरकार के लॉकडाउन की अवधि को और एक हफ्ता आगे बढ़ाने पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। पार्टी ने लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने व सख्ती और अधिक बरतने की घोषणा को सरकार की विफलता का नतीजा बताया है। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने कहा, "केजरीवाल ने एक वर्ष का समय पहले बर्बाद किया, लेकिन हैरानी की बात है कि वे लॉकडाउन का इस्तेमाल कोरोना महामारी को रोकने की तैयारी करने की जगह बीजेपी के साथ आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति में लगे रहे।"

उन्होंने कहा, संक्रमण दर व मृत्युदर के आंकड़े इसका सबूत हैं, पहले दो हफ्ते के लॉकडाउन के दौरान संक्रमण घटने की जगह बढ़े। जिस प्रकार से सख्ती बढ़ाने की बात कर केजरीवाल ने लॉकडाउन के दौरान टेस्ट को कम किया, वह साबित करता है कि केजरीवाल के पास लॉकडाउन व सख्ती के अलावा कोई नीति नहीं है।

दिल्ली में लॉकडाउन लगने से यहां काम कर रहे मजदूरों के सामने अब नई चुनौतियां सामने आ गई हैं। अनिल कुमार ने मजदूरों की बात करते हुए कहा, केजरीवाल की विफलता के कारण दिहाड़ी मजदूर, छोटे व्यापारी सहित सभी वर्गों के पास आज खाने के लाले पड़ चुके हैं, दिल्ली सरकार की तरफ से कोई आर्थिक राहत पैकेज की घोषणा नहीं हुई।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने दिल्ली सरकार से मांग करते हुए कहा है कि एक बृहत राहत पैकेज की घोषणा हो, जिसमें दिल्ली के हर वर्ग का खयाल रखा जाए। हर परिवार के खाते में 10,000 रुपये की आर्थिक मदद तथा बिना कागजात का ख्याल किए लोगों को सूखा व गीला राशन दिया जाना चाहिए।

(आईएएनएस इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia