लखनऊ: बड़ा इमामबाड़े में डांसिंग गर्ल का वीडियो वायरल, महिलाओं के लिए ड्रेस कोड तय

लखनऊ के ऐतिहासिक बड़ा इमामबाड़े में शॉर्ट्स और बिना स्कार्फ के महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने के एक दिन बाद आया है जिसमें एक लड़की इमामबाड़ा परिसर के अंदर नाचती हुई दिखाई दे रही है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

लखनऊ के ऐतिहासिक बड़ा इमामबाड़े में शॉर्ट्स और बिना स्कार्फ के महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने के एक दिन बाद आया है जिसमें एक लड़की इमामबाड़ा परिसर के अंदर नाचती हुई दिखाई दे रही है। यह निर्णय हुसैनाबाद ट्रस्ट द्वारा लिया गया, जो प्रतिष्ठित स्मारकों की देखभाल करते है।

कई शिया मौलवियों ने इस घटना की तीखी आलोचना की और इमामबाड़े की यात्रा करने वाले पर्यटकों के लिए सख्त नियमों की मांग की है, जिसका उपयोग शिया मुसलमानों द्वारा मुहर्रम के दौरान शोक सभा आयोजित करने के लिए किया जाता है।


शिया धर्मगुरु मौलाना सैफ अब्बास ने कहा, "यह एक गंभीर मामला है। जांच होनी चाहिए और लड़की के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। इमामबाड़ा केवल एक पर्यटन स्थल नहीं है। यह एक धार्मिक स्थान भी है और इसके परिसर के अंदर इस तरह की गतिविधियों की अनुमति नहीं दी जा सकती है।" ट्रस्ट ने महिला आगंतुकों के बीच स्कार्फ बांटने के लिए इमामबाड़े में स्वयंसेवकों को भी तैनात किया है।

एक पदाधिकारी ने कहा, "हम लड़कियों को शॉर्ट्स या मिनीस्कर्ट में अनुमति नहीं दे रहे हैं।"
स्मारक 1784 में अवध के चौथे नवाब आसफ-उद-दौला द्वारा एक प्रमुख अकाल राहत परियोजना के रूप में बनाया गया था। इसका केंद्रीय हॉल लकड़ी, लोहे या पत्थर के बीम के किसी भी प्रकार के समर्थन के बिना दुनिया के सबसे बड़े धनुषाकार हॉलों में से एक माना जाता है।

बड़ा इमामबाड़ा में प्रसिद्ध 'भुलभुलैया' (भूलभुलैया) भी है। यह शब्द लोकप्रिय हो गया क्योंकि आगंतुकों के लिए बिना गाइड के नेविगेट करना बहुत मुश्किल होता है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia