मध्य प्रदेश उपचुनाव लड़ रहे 14 मंत्रियों पर पद के दुरुपयोग का आरोप, कांग्रेस ने आयेाग से की हटाने की मांग

कांग्रेस ने मध्य प्रदेश उपचुनाव लड़ रहे शिवराज सिंह चौहान सरकार के 14 मंत्रियों को पद से हटाने की चुनाव आयोग से मांग की है। कांग्रेस का आरोप है कि पूर्व विधायक ये मंत्री चुनाव को प्रभावित करने के लिए अपने पद का दुरुपयोग कर आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आसिफ एस खान

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से मध्य प्रदेश उपचुनाव लड़ रहे शिवराज सिंह चौहान सरकार के 14 मंत्रियों को पद से हटाने की मांग की है। ये सभी मंत्री पूर्व विधायक हैं और विधानसभा का उप-चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस का आरोप है कि ये सभी मंत्री चुनाव जीतने के लिए अपने पद और वर्चस्व का खुलेआम दुरुपयोग कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि कांग्रेस ने सोमवार को चुनाव आयोग से शिकायत कर प्रदेश के 14 पूर्व विधायक मंत्रियों को पद से हटाने की मांग की है।
सलूजा ने बताया कि, "कांग्रेस ने चुनाव आयोग को शिकायत करते हुए कहा है कि ये 14 मंत्री अपने मंत्री पद और वर्चस्व का इस्तेमाल कर अपने-अपने क्षेत्रों में चुनाव को प्रभावित कर आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं।"

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से शिकायत कर कहा है कि चुनाव लड़ रहे ये सभी 14 मंत्री अपने विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों और मातहतो पर दबाव डालकर मतदाताओं और हितग्राहियों को अपने पक्ष में मतदान के लिए निर्देशित करने का काम कर रहे हैं। ये विभाग के झूठे शिलान्यास, भूमि पूजन और झूठी योजनाओं के नाम पर मतदाताओं को भ्रमित और प्रभावित करने का काम कर रहे हैं और लगातार आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं। इसलिए इन्हें तत्काल मंत्री पद से हटाया जाए ताकि इनके क्षेत्रों में निष्पक्ष चुनाव संपन्न हो सके।

बता दें कि मध्य प्रदेश विधानसभा की 28 सीटों पर 3 नवंबर को उपचुनाव निर्धारित है। चुनाव के ऐलान के बाद से मध्य प्रदेश में चुनाव लड़ रहे मंत्रियों पर आचार संहिता के खुलेआम उल्लंघन के आरोप लग रहे हैं। बीते दिनों एक मंत्री का लोगों को पैसे बांटते वीडियो वायरल हुआ तो उसके बाद एक मंत्री का महिलाओं को साड़ियां बांटते वीडियो वायरल हुआ। इसके अलावा कई जगह पर अधिकारियों पर दबाव डालने का मामला भी सामने आया है। अब इन्हीं सब मामलों को लेकर कांग्रेस ने आयोग से शिकायत की है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय