शिव‘राज’ में हवा में मोदी का ‘डिजिटल इंडिया’? मंत्री को मोबाइल में नेटवर्क के लिए झूलना पड़ता है झूला, सुनाई आपबीती

मध्य प्रदेश के अशोक नगर में मंत्री बृजेंद्र सिंह यादव 9 दिनों तक रोज 3 घंटे झूले पर बैठकर बिता रहे हैं। इलाके में मोबाइल सिग्नल न होने की वजह उन्हें लोगों की समस्याओं का समाधान करने में दिक्कत होती है। इसलिए मोबाइल सिग्नल के लिए उन्हें झूले पर चढ़कर थोड़ा ऊपर जाना पड़ता है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्र की मोदी सरकार का यह दूसरा कार्यकाल है। मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में ही ‘डिजिटल इंडिया’ का नारा दिया था। गांवों को इंटरनेट से जोड़ने की बात की गई थी। लेकिन 6 साल बीत जाने के बाद भी ‘डिजिटल इंडिया’ नारे की हकीकत क्या है। इसकी एक बानगी मध्य प्रदेश में देखने को मिली है। यहां पर बीजेपी सरकार के मंत्री को सिर्फ इसलिए ऊंचाई पर झूले में झूलना पड़ रहा है, ताकि उनके मोबाइल में नेटवर्क आए और वह जनता की समस्याओं का समाधान अधिकारियों से बात करके निकाल सकें। गौर करने वाली बात यह है कि यह हाल बीजेपी शासित मध्य प्रदेश का है जहां, दशकों से बीजेपी की ही सरकार है।

मध्य प्रदेश के अशोक नगर में मंत्री बृजेंद्र सिंह यादव 9 दिनों तक रोज 3 घंटे झूले पर बैठकर बिता रहे हैं। इलाके में मोबाइल सिग्नल न होने की वजह उन्हें लोगों की समस्याओं का समाधान करने में दिक्कत होती है। इसलिए मोबाइल सिग्नल के लिए उन्हें झूले पर चढ़कर थोड़ा ऊपर जाना पड़ता है।

शिवराज के मंत्री ब्रजेंद्र सिंह यादव ने कहा, “मैं यहां भागवत में मुख्य यजमान हूं, मुझे यहां 9 दिन रहना है। लोग समस्याएं लेकर आते हैं। यहां सिग्नल न होने से अधिकारियों से बात नहीं हो पाती, इसलिए समस्याओं का समाधान नहीं कर पाता हूं। मैं यहां लगे झूले पर बैठकर ऊपर जाता हूं और समस्या का समाधान करता हूं।”

सवाल यह है कि अगर बीजेपी शासित राज्य में ‘डिजिटल इंडिया’ का यह हाल है तो आप देश के दूसरे राज्यों का हाल क्या होगा? शिवराज के मंत्री को नेटवर्क नहीं मिल रहा तो उन्होंने झूला लगाकर इसका समाधान निकाल लिया। सवाल यह है कि आखिर जनता किसके पास जाएगी और मोबाइल में नेटवर्क पकड़वाने के लिए कहां-कहां झूला लगवाएगी? इन सवालों का जवाब ‘डिजिटल इंडिया’ का नारा देने वाली मोदी सरकार और राज्य की शिवराज सरकार को देनी चाहिए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 21 Feb 2021, 3:57 PM
लोकप्रिय
next