मध्य प्रदेश: जेएमबी आतंकवादी मामले में हिरासत में दो स्थानीय लोग, भोपाल के रहने वाले हैं दोनों

पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए दोनों ही भोपाल के रहने वाले हैं। पुलिस ने कहा कि उन्हें कथित तौर पर जेएमबी सदस्यों को पनाह देने और रसद सहायता प्रदान करने के आरोप में हिरासत में लिया गया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने रविवार को गिरफ्तार किए गए जमात-उल-मुजाहिदीन (जेएमबी) के चार सदस्यों के साथ कथित संबंध के आरोप में दो और लोगों को हिरासत में लिया है। पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए दोनों ही भोपाल के रहने वाले हैं। पुलिस ने कहा कि उन्हें कथित तौर पर जेएमबी सदस्यों को पनाह देने और रसद सहायता प्रदान करने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। उन्हें सोमवार देर रात हिरासत में लिया गया।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, "यह पता लगाने के लिए उनसे पूछताछ की जा रही है कि क्या वे जेएमबी सदस्यों के मकसद से अवगत हैं। अगर उनके जुड़ाव की पुष्टि हो जाती है, तो उन पर भी यूएपीए के तहत आरोप लगाए जाएंगे।"

चार संदिग्ध आतंकवादी, जो प्रतिबंधित जेएमबी के सदस्य हैं और स्लीपर सेल बनाने की अपनी गुप्त योजना के साथ भोपाल में रह रहे थे, उन पर गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।

मामले में आगे की जांच के लिए सोमवार को भोपाल की एक जिला अदालत ने उन्हें 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि कई टीमों को तैनात किया गया है और प्रत्येक टीम को एक विशेष पहलू में मामले की जांच करने का काम सौंपा गया है।

अधिकारी ने कहा, "उनके कब्जे से बरामद दस्तावेज उत्तर प्रदेश में तैयार किए गए थे, जबकि प्रवेश किए गए ये बांग्लादेशी (जेएमबी सदस्य) संभवत: पश्चिम बंगाल सीमा और स्थानीय लोगों के माध्यम से प्रवेश कर चुके हैं जिन्होंने भोपाल में उनकी मदद की थी। इसलिए, इस मामले की जांच के लिए अलग-अलग कार्यों के लिए टीमों को तैनात किया गया है।"

उन्होंने आगे कहा कि उनमें से एक कुछ समय असम में और दूसरा उत्तर प्रदेश में रहा। विस्तृत जांच के लिए पुलिस उन्हें उनके पिछले सभी पतों पर ले जाएगी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;