योगी सरकार में यूपी के जेल बने दारूबाजी, सट्टेबाजी और जुए के अड्डे, माफिया अतीक की विदाई पर खूब छलके जाम

योगी सरकार में यूपी के जेलों का हाल और बेहाल हो गया है। यहां दारू पार्टी, जुआ और सट्टेबाजी का धंधा धड़ल्ले से चल रहा है। सोशल मीडिया पर जेल विभाग को शर्मिदा करने वाली, मांसाहारी व्यंजन और दारू पार्टी करते कैदियों की कई तस्वीरें साझा की जा रही हैं।

फोटो: आईएएनएस
फोटो: आईएएनएस

नवजीवन डेस्क

योगी सरकार में उत्तर प्रदेश के जेले दिन-प्रतिदिन बदमाशों के लिए पब बनती जा रही हैं। बैरक के अंदर गैंगस्टरों को दारू और जुआ पार्टी करते देखा जा सकता है। सोशल मीडिया पर जेल विभाग को शर्मिदा करने वाली, मांसाहारी व्यंजन और दारू पार्टी करते कैदियों की कई तस्वीरें साझा की जा रही हैं। तस्वीरें माफिया डॉन अतीक अहमद के नैनी सेंट्रल जेल से गुजरात के साबरमती जेल में स्थानांतरित करने की पूर्व संध्या पर दी गई एक कथित विदाई पार्टी से संबंधित बताई जा रही हैं।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस से बातचीत करते हुए उत्तर प्रदेश अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (जेल) चंद्र प्रकाश ने पुष्टि की कि तस्वीरें कुछ खूंखार गैंगस्टरों की हैं, जो सालों से नैनी सेंट्रल जेल में बंद हैं।उन्होंने कहा, "मैंने उत्तर प्रदेश महानिरीक्षक (जेल) को निर्देश दिया है कि जेल कर्मचारियों की जांच की जाए और तस्वीरों में देखे गए गैर-व्यंजन, शराब और स्मार्ट फोन जेल के अंदर कैसे घुसे इस बात का पता लगाया जाए।"

तस्वीरें वास्तविक किस तारीख पर जेल के अंदर ली गई, इस पर एडीजी ने कहा, "अब तक हम तिथि और समय का पता नहीं लगा सके हैं। हम नहीं कह सकते कि ये तस्वीरें अतीक की विदाई पार्टी की हैं।" उन्होंने आगे कहा, "जब तक अंतिम रिपोर्ट मैं नहीं देख लेता, हम केवल यह कह सकते हैं कि यह सुरक्षा का गंभीर उल्लंघन प्रतीत होता है और हम इस बात की पुष्टि करते हैं कि जेल के अंदर इस तरह की पार्टी होने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।"

हालांकि सूत्रों ने यह भी बताया कि गैंगस्टर सट्टेबाजी और जुए में भी शामिल थे। वहीं जेल अधिकारियों ने बैरक के अंदर सट्टेबाजी या जुआ के आरोपों से इनकार किया। नामजद माफिया और पूर्व सांसद अतीक को तीन जून को नैनी जेल से साबरमती जेल हवाई मार्ग से ले जाया गया था। इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एक विशेष टीम बनाई गई थी।

अतीक अहमद ने वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ लोक सभा चुना लड़ने की घोषणा की थी और इससे वह काफी चर्चा में आया था लेकिन उसने चुनावों से नाम वापस ले लिया क्योंकि उसे चुनाव प्रचार के लिए जमानत नहीं मिली। मोदी लगातार दूसरी बार वाराणसी से जीतकर लोक सभा पहुंचे।

आईएएनएस इनपुट के साथ

लोकप्रिय