दिल्ली: मंडावली में 3 बच्चियों की मौत, जांच के बाद सामने आया नया मोड़, पिता ने दी थी अनजान दवा

दिल्ली के मंडावली में तीन बच्चियों की मौत के मामले में नया विवाद खड़ा हो गया है। शुक्रवार को जारी दिल्ली सरकार की मजिस्ट्रेट की रिपोर्ट कहती है कि बच्चियों का पोषण स्तर खराब होने के बावजूद तीनों भूखी नहीं थीं। सभी को नियमित तौर पर खाना मिलता था।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पूर्वी दिल्ली के मंडावली इलाके में कथित तौर पर भूख से हुई तीन बच्चियों की मौत के मामले में नया मोड़ सामने आया है। दिल्ली सरकार के आदेश पर हुई मजिस्ट्रेट जांच में कहा गया है कि बच्चों की मौत भुखमरी से नहीं हुई है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बच्चियों को दस्त की समस्या थी, जिसके बाद उनके पिता ने उन्हें 23 जुलाई की रात गर्म पानी में अनजान दवा मिलाकर पिलाई थी। 24 जुलाई की सुबह पिता काम ढूंढने के लिए घर से निकले लेकिन लौटकर नहीं आया। इस वजह से इस मामले में संदेह पैदा हो रहा है और इसकी विस्तृत जांच कराई जानी चाहिए। मंगल सिंह का अब तक पता नहीं चला है।

शुक्रवार शाम मजिस्ट्रेट की रिपोर्ट भी दिल्ली सरकार को मिल गई है। इसमें बताया गया है कि पेट में संक्रमण होने से तीनों बच्चियों को उल्टी-दस्त हो रहे थे, लेकिन उन्हें ओआरएस घोल और मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं दिया गया। इससे उन्हें डिहाइड्रेशन हो गया था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि तीनों बच्चियों का पोषण स्तर सामान्य नहीं था। फिर भी, उन्हें नियमति तौर पर खाना मिलता था। वहीं, सबसे बड़ी बच्ची के बैंक खाते में 1805 रुपये जमा हैं। इन हालात में मजिस्ट्रेट ने पूरे मामले का संदिग्ध बताया है।

इससे पहले दो बार हुई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि तीनों लड़कियों के पेट खाली थे और उनके शरीर में जरा सा भी वसा नहीं पाया गया। केंद्र सरकार ने भी तीनों बहनों की मौत के मामले में जांच के आदेश दिए हैं जबकि दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि गरीबी और बीमार होने के कारण मौतें हुई हैं और यह व्यवस्था की सबसे बड़ी नाकामी है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;