रूठी शिवसेना को मनाने के लिए बीजेपी ने खेला ‘इमोशनल कार्ड’, फडणवीस को शिव सैनिक बताकर की साथ आने की अपील

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जल्द ही कोई फैसला होगा। उन्होंने कहा कि देवेंद्र फडणवीस नेतृत्व में सरकार बनाई जानी चाहिए। गडकरी ने कहा कि आरएसएस और मोहन भागवत का इससे कोई संबंध नहीं है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर सियासी हलचल और तेज हो गई है। सरकार गठन के लिए सिर्फ शुक्रवार तक का समय बचा है। इस बीच रूठी शिवसेना को मानाने के लिए बीजेपी ने इमोशनल कार्ड खेल दिया है। एक बार फिर बीजेपी की ओर से शिवसेना से साथ आने की अपील की गई है। बीजेपी नेता सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि हम एक मजबूत और स्थिर सरकार चलाना चाहते हैं, हम शिवसेना के साथ सरकार बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि उद्धव जी ने स्वयं कहा था कि देवेंद्र फडणवीस जी भी शिव सैनिक हैं।

बीजेपी का एक प्रतिनिधिमंडल आज मुंबई में राज्यपाल कोश्यारी भगत से मुलाकात करेगा। मीडिया ने मुनगंटीवार से पूछा कि क्या राज्यपाल से मुलाकात के दौरान बीजेपी सरकार बनाने का दावा पेश करेगी? इस पर उन्होंने कहा कि फिलहाल ऐसा हमारा कोई इरादा नहीं है।

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जल्द ही कोई फैसला होगा। उन्होंने यह भी साफ किया कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस नेतृत्व में सरकार बनाई जानी चाहिए। गडकरी ने कहा कि आरएसएस और मोहन भागवत का इससे कोई संबंध नहीं है। गडकरी के इस बयान का यह तलब निकाला जा रहा है कि फडणवीस को ही राज्य का सीएम बनाया जाना चाहिए। महाराष्ट्र में अगले मुख्यमंत्री के खुद के नाम की चर्चा पर नितिन गडकरी ने कहा कि मेरे लिए महाराष्ट्र लौटने का कोई सवाल नहीं है, मैं दिल्ली में काम करना जारी रखूंगा।

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद को लेकर ही बीजेपी और शिसेना के बीच रार है। नितिन गडकरी कह रहे हैं कि फडणवीस के नेतृत्व में ही सरकार बनानी चाहिए। उधर, शिवसेना इस बात पर अड़ी हुई है कि सीएम तो उसी का होगा चाहे जो हो जाए। शिवसेना का कहना है कि ढाई साल उसका और ढाई साल बीजेपी का मुख्यमंत्री होगा। इसके पीछे शिवसेना का तर्क है कि लोकसभा चुनाव के दौरान अमित शाह के साथ हुई बैठक में इस बात पर मुहर लगी थी।

लोकप्रिय