महाराष्ट्रः वर्धा में विशाल किसान महापंचायत आयोजित, सीएम उद्धव के अनुरोध पर यवतमाल का आयोजन रद्द किया गया

किसान नेता राकेश टिकैत तो नहीं पहुंच सके, लेकिन दिल्ली से किसान नेताओं की एक टीम वर्धा में किसान महापंचायत को संबोधित करने के लिए सड़क मार्ग से पहुंची। महापंचायत में जुटे लोगों को उन्होंने तीन नए कृषि कानूनों और केंद्र सरकार से मांगों के बारे में समझाया।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने शनिवार को महाराष्ट्र के वर्धा में विशाल किसान महापंचायत का आयोजन किया। महापंचायत में लगभग 5000 किसान संगठनों से जुड़े किसानों ने हजारों की संख्या में भाग लिया। हालांकि, कोविड-19 प्रतिबंधों के कारण शनिवार को यवतमाल में इसी तरह के किसानों की सभा को रद्द करना पड़ा।

संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य गुरमीत सिंह मंगत ने कहा, "हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत अनुपस्थित थे, लेकिन दिल्ली के किसान नेताओं की एक टीम आज दोपहर वर्धा में शांतिपूर्ण तरीके से किसान महापंचायत को संबोधित करने के लिए सड़क मार्ग से पहुंची। महापंचायत में जुटे लोगों के हमने तीन नए कृषि कानूनों और केंद्र सरकार से हमारी मांग के बारे में समझाया।"

गुरमीत सिंह के साथ भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी) के प्रवक्ता तेजवीर सिंह और पंजाब में पगड़ी संभाल जट्टा लेहर के महासचिव अमनदीप सिंह घुमन भी थे। बाद में, ये सभी लोग यवतमाल के लिए रवाना हुए, जहां शुक्रवार से निषेधात्मक आदेश लागू है। जिसके कारण पुलिस ने अंतिम समय पर, किसान महापंचायत आयोजित करने की अनुमति से इनकार कर दिया।

गुरमीत सिंह मंगत ने बताया कि "हमारे वरिष्ठ नेता राकेश टिकैत कुछ मुद्दों के कारण शुक्रवार रात दिल्ली से उड़ान भरकर नागपुर नहीं पहुंच सके। हालांकि, हमने आगे बढ़ने का फैसला किया है।"
जब वे यवतमाल बार्डर पहुंचे, उनका स्वागत राज्य मंत्री और वीएनएसएसएम के अध्यक्ष किशोर तिवारी ने किया। तिवारी ने कहा, "मैंने हमारे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरेजी की ओर से उनका स्वागत किया। मैंने सीएम के संदेश से अवगत कराया कि राज्य में बिगड़ते कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए महापंचायत की अनुमति नहीं दी जा सकती। हालांकि, महाराष्ट्र में स्थिति में सुधार होने पर एक नई महापंचायत होगी।"

उन्होंने कहा कि विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के इशारे पर काम करने वाले एक स्थानीय कार्यकर्ता ने यवतमाल महापंचायत के लिए किसानों को इकट्ठा करने का प्रयास किया, लेकिन राज्य के किसान नेताओं और संगठनों ने उनकी अर्जी को नजरअंदाज कर दिया क्योंकि उन्हें उस पर कोई विश्वास नहीं था। तिवारी ने सीएम के अनुरोध का सम्मान करने और बाद की तारीख के लिए किसान महापंचायत स्थगित करने के लिए मंगत सिंह और घुमन और नागपुर के सात अन्य प्रतिनिधियों को भी धन्यवाद दिया।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next