कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने पर 6 छात्रों को कॉलेज से निकाला गया? छात्र बोले- ये तानाशाही है

वर्धा के महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय प्रशासन पर आरोप है कि बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने की वजह से इन छात्रों को निष्कासित किया गया है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने कोड एंड कंडक्ट का हवाला देते हुए 6 छात्रों पर यह कार्यवाई की है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र के एक विश्वविद्यालय से 6 छात्रों को निष्कासित करने का मामला गरमाता जा रहा है। दरअसल वर्धा के महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय प्रशासन पर आरोप है कि बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने की वजह से इन छात्रों को निष्कासित किया गया है। लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि कैंपस के नियम-कानून तो तोड़ने की वजह से इन छात्रों पर कार्रवाई की गई है। लेकिन छात्रों का कहना है कि उन्होंने कोई नियम कानून नहीं तोड़े हैं। बल्कि कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने की वजह से उन्हें विश्वविद्यालय से निकाला गया है।

कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने पर 6 छात्रों को कॉलेज से निकाला गया? छात्र बोले- ये तानाशाही है

छात्रों का कहना है कि जब विश्वविद्यालय परिसर में गांधी जयंती मनाई जाए सकती है तो फिर कांशीराम की पुण्यतिथि क्यों नहीं मनाई जा सकती ? इसके साथ ही उन्होंने जोड़ा कि जब प्रशासन की अनुमति से विश्वविद्यालय परिसर में सांप्रदायिक और जातिवादी संगठन RSS की शाखाएं लग सकती हैं तो फिर बहुजन नेता कांशीराम की जयंती क्यों नहीं मनाई जा सकती ?


इतना ही नहीं छात्रों का आरोप है कि पिछड़ी जातियों से होने की वजह से उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। सभी छह छात्र पिछड़े समाज के बताए जा रहे हैं। सभी छात्रों ने इस तर्क के पक्ष में जातिवर्ग मेंशन करते हुए पोस्टर भी जारी किया है।

कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने पर 6 छात्रों को कॉलेज से निकाला गया? छात्र बोले- ये तानाशाही है

बता दें कि इन छात्रों ने कांशीराम की पुण्यतिथि मनाने के साथ ही प्रधानमंत्री मोदी को लेटर भी लिखा था। दरअसल करीब 50 मशहूर हस्तियां जिन्होंने पीएम मोदी को मॉब लिंचिंग को लकर पत्र लिखा था उन पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज होने की खबरें आ रही थी। जिससे नाराज होकर इन छात्रों ने पीएम मोदी को पत्र लिखा था। जिसके बाद इन पर ये कार्रवाई की गई।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 11 Oct 2019, 11:07 AM
/* */