यूपीः बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी ने जीता पंचायत चुनाव, इंस्पेक्टर सुबोध समेत दो की गई थी जान

योगेश ने अपनी जीत पर कहा कि पहले मैंने कई संगठनों के साथ काम किया है, लेकिन कुछ मुद्दों के लिए, जैसे कि किसानों का मुद्दा, विधवाओं के लिए पेंशन आदि के लिए आपको राजनीति में प्रवेश करना ही होता है। आप एक राजनेता बने बगैर इस तरह के कामों को पूरा नहीं कर सकते।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज ने जिला पंचायत चुनाव में जीत दर्ज की है। बुलंदशहर में 2018 में हुई हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह सहित दो लोग मारे गए थे। बजरंग दल के पूर्व कार्यकर्ता योगेश राज ने निर्दलीय उम्मीदवार निर्दोष चौधरी को 2,150 मतों से हराया।

चुनाव लड़ने के दौरान योगेश राज जमानत पर था। योगेश ने इस बारे में कहा कि पहले मैंने कई संगठनों के साथ काम किया है, लेकिन कुछ मुद्दों के लिए, जैसे कि किसानों का मुद्दा, विधवाओं के लिए पेंशन आदि के लिए आपको राजनीति में प्रवेश करना ही होता है। आप एक राजनेता बने बगैर इस तरह के कामों को पूरा नहीं कर सकते। मैंने वार्ड नंबर 5 से चुनाव लड़ा और मैं 2,150 मतों से जीता हूं।


2018 की हिंसा के बारे में बात करते हुए, योगेश राज ने कहा कि उस घटनाक्रम में दो लोगों की मौत हो गई थी, लेकिन उसे हत्या के आरोप में नामजद नहीं किया गया है। योगेश ने कहा कि स्याना हिंसा में दो लोगों की मौत हो गई थी और मैं उन दोनों परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं, लेकिन मुझ पर सिर्फ भीड़ को उकसाने का आरोप है और मैं हत्या का आरोपी नहीं हूं।

बता दें कि 3 दिसंबर, 2018 को बुलंदशहर के स्याना के महाव गांव के पास एक गन्ने के खेत में एक जानवर का शव मिलने से भीड़ उग्र हो गई थी। गुस्साई भीड़ ने चिंगरावती पुलिस चौकी में आग लगा दी थी। हमले में स्याना पुलिस स्टेशन में तैनात इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के अलावा एक युवक सुमित कुमार की भी जान चली गई थी। चिंगरावती, महाव और नायबांस हिंसा के केंद्र थे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia