GST पर मोदी सरकार का साथ देने का ममता बनर्जी को पछतावा, कहा- TMC की सबसे बड़ी गलती थी

ममता बनर्जी ने हुगली जिले के सिंगुर में ग्रामीण-सड़क नेटवर्क का उद्घाटन करते हुए कहा कि जीएसटी के लागू होने के बाद, केंद्र सरकार राज्य के हिस्से को जारी किए बिना राज्य से सारा पैसा ले रही है। हमने सोचा था कि इससे राज्य को फायदा होगा, लेकिन उल्टा हो गया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

तृणमूल कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जीएसटी पर केंद्र की मोदी सरकार का समर्थन करने का पछतावा है। उन्होंने मंगलवार को साफ तौर पर कहा कि जीएसटी लागू करने के लिए केंद्र की मोदी सरकार को समर्थन देना तृणमूल कांग्रेस की सबसे बड़ी गलती थी। हमने सोचा था कि इससे राज्य को फायदा होगा, लेकिन उल्टा कई योजनाओं का फंड बंज कर दिया गया है।

उन्होंने हुगली जिले के सिंगुर में ग्रामीण-सड़क नेटवर्क का उद्घाटन करते हुए कहा- जीएसटी के लागू होने के बाद, केंद्र सरकार इस गिनती पर राज्य के हिस्से को जारी किए बिना राज्य से सारा पैसा ले रही है। जीएसटी लागू करने में केंद्र सरकार का समर्थन करना हमारी सबसे बड़ी गलती थी। हमने सोचा था कि इससे राज्य को फायदा होगा। लेकिन अब केंद्र सरकार ने मनरेगा से लेकर पीएमएवाई तक विभिन्न केंद्र प्रायोजित योजनाओं के तहत सभी फंड जारी करना बंद कर दिया है।


ममता बनर्जी ने कहा कि वह बुधवार से कोलकाता के रेड रोड स्थित बीआर अंबेडकर प्रतिमा के सामने धरना देने जा रही हैं जो गुरुवार शाम 7 बजे तक चलेगा। उन्होंने दावा किया कि मैं सिंगूर में अनिच्छुक किसानों की जमीन वापस करने की मांग को लेकर 14 दिनों तक अनशन पर थी। बाद में सत्ता में आने के बाद हमने सिंगूर के किसानों को वह जमीन लौटा दी। सिंगूर के किसानों ने इस मुद्दे पर हमारे आंदोलन को पूरा समर्थन दिया।।

ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि राज्य की ग्रामीण सड़क विकास योजनाओं के तहत 12,000 किलोमीटर मौजूदा ग्रामीण सड़कों के नवीनीकरण के अलावा 9,000 किलोमीटर का ग्रामीण सड़क नेटवर्क स्थापित किया जाएगा। उन्होंने यह भी दावा किया कि उनकी सरकार ने आगामी मानसून से पहले परियोजना को पूरा करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि सिंगूर हमेशा मेरे दिल के करीब रहा है और इसलिए मैंने यहां से इस कार्यक्रम को शुरू करने का फैसला किया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;